रोजगारउन्मुखी कौशल प्रशिक्षण के बाद युवाओं को मिलेगी नौकरी

कांकेर

जिले के बेरोजगार युवाओं को रोजगार से जोड?े के लिए जिला प्रशासन द्वारा अभिनव पहल की जा रही है। बेरोजगार युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए यह बहुत बड़ा जरिया बन सकता है। कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला के मार्गदर्शन में कांकेर जिले में निवासरत न्यूनतम कक्षा 8वीं उत्तीर्ण एवं 18 वर्ष से अधिक आयु के बेरोजगार युवाओं को नि:शुल्क रोजगारोन्मुखी कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाकर विभिन्न कंपनियों में नौकरी उपलब्ध कराया जायेगा। इसके लिए चरणबद्ध तरीके से कार्यवाही भी शुरू हो चुकी है तथा युवाओं का चयन कर कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण भी प्रारंभ किया जा चुका है।

प्रशिक्षण प्रदान किया जाकर विभिन्न कंपनियों में नौकरी उपलब्ध कराया जायेगा। इसके लिए चरणबद्ध तरीके से कार्यवाही भीजिले के बेरोजगार युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण प्रदान किया जाकर विभिन्न फर्मों में नौकरी प्रदान की जायेगी। इच्छुक युवाओं के चयन के लिए जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालयों में 05 से 30 अगस्त तक चरणबद्ध तरीके से काउंसलिंग शिविर का आयोजन किया गया। चयनित युवाओं को उनकी रूचि के अनुसार ट्रेड में कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है तथा उन्हें प्रशिक्षण प्रदान करने जिला मुख्यालय से बाहर भेजा जा रहा है। प्रशिक्षण के लिए युवाओं के चयन हेतु अंतागढ़ एवं पखांजूर में 05 अगस्त को आयोजित काउंसलिंग शिविर में 139 युवाओं का चयन किया गया। इसी प्रकार 08 अगस्त को भानुप्रतापपुर एवं दुगूर्कोंदल में आयोजित काउंसलिंग शिविर में 184 युवाओं का चयन तथा 10 अगस्त को चारामा एवं नरहरपुर में आयोजित काउंसलिंग में 277 युवा और 17 अगस्त को जिला मुख्यालय कांकेर में आयोजित काउंसलिंग शिविर में 146 युवाओं का चयन कौशल उन्नयन प्रशिक्षण के लिए किया गया है, जिन्हे विभिन्न ट्रेड जैसे- आटोमेटिव रिपेयर (टू-व्हीलर एवं फोर व्हीलर), हॉस्पिटैलिटी, वेल्डिंग ड्राईवॉल, फॉलसिलिंग, इलेक्ट्रीकल, प्लंबिंग, हेल्थ केयर, ब्यूटी इत्यादि ट्रेड में प्रषिक्षण प्रदान जायेगा।

Related Articles

Back to top button