कांग्रेस का महंगाई के खिलाफ धरना-प्रदर्शन, गहलोत-पायलट गुट ने एक मंच से मोदी सरकार पर साधा निशाना

जयपुर
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने देश में लगातार बढ़ती तेल की कीमत और महंगाई को लेकर जयपुर में धरना-प्रदर्शन किया। धरना-प्रदर्शन में गहलोत-पायलट गुट ने एक मंच से मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। धरना-प्रदर्शन में पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा,  पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट, मंत्री ममता भूपेश, भजनलाल जाटव, महेश जोशी, सुभाष गर्ग, हेमाराम चौधरी, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता मोहन प्रकाश, विधायक, गंगा देवी, आलोक बेनीवाल, रामलाल जाट, कृष्णा पूनियां, पूर्व केंद्रीय मंत्री नमोनारायण मीणा, मोहन डागर, कर्ण सिंह यादव, प्रशांत बैरवा समेत अन्य नेता मौजूद रहे। कांग्रेस के सभी वक्ताओं ने महंगाई के लिए मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

महंगाई के लिए पीएम मोदी जिम्मेदार
मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा के राज में महंगाई चरम पर है। पिछले 16 दिनों में पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी करके गरीब की कमर तोड़ दी है। मोदी सरकार  2011 की जनगणना के आधार पर खाद्य सुरक्षा कानून के तहत गेहूं दे रही है। खाद्य सुरक्षा कानून कांग्रेस सरकार ने लागू किया। कांग्रेस सरकार ने मनरेगा योजना लागू कर रोजगार की व्यवस्था की। प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि भाजपा का झूठ ज्याद नहीं चलेगा। सोशल मीडिया पर झूठ चल रहा है। कांग्रेस का कार्यकर्ता सच के लिए लड़ेगा। भाजपा के नेताओं का झूठ पकड़ में आ रहा है। मनमोहन सिंह के राज में पेट्रोल-डीजल 70 रुपये लीटर था। मोदी  सरकार महंगाई बढ़ा रही।वल्ल्भनगर और धारियावद  उपचुनाव जीते। पंचायत चुनाव और नगर परिषद के चुनाव जीते। राजस्थान विधानसभा 2023 भी कांग्रेस जीतेगी। प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि विधानसभा चुनाव 2023 के चुनावों में जीत हासिल करेगी। हम सभी को केंद्र सरकार के नीतियों के खिलाफ मिलकर काम करना चाहिए।

पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने की मांग
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गैस सिलेंडर और बाइक सामने रखे और उन पर माला डालकर पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध किया। कांग्रेस नेताओं ने संबोधित करते हुए महंगाई पर रोष जताते हुए नोटबंदी, जीएसटी आदि से आर्थिक मंदी की स्थिति देशभर में होना बताया। उन्होंने केंद्र राज्य सरकार को किसान, जवान एवं महिला विरोधी बताते हुए जमकर आलोचना की। पिछले 10 दिन में 9 बार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाए गए हैं और इसका परिणाम मध्यम वर्ग और गरीब लोगों पर पड़ता है। हमारी मांग है कि सरकार पेट्रोल-डीजल के दाम को बढ़ाना बंद करें। पूरे देश में हमारा प्रदर्शन चलेगा और काफी दिनों तक चलेगा।

Related Articles

Back to top button