यूपी में चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था! लाइट जाने के बाद अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में इलाज करते दिखे डॉक्टर

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में चरमराती स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल देने वाला एक मामला बलिया जिले से सामने आया है। दरअसल, यहां जिला अस्पताल में लाइट चले जाने के बाद डॉक्टर मोबाइल टॉर्च की रोशनी में मरीजों का इलाज करते हुए नजर आए। यह मामला बलिया जिला अस्पताल का है। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
 
बारिश की वजह से कटी थी बिजलीबारिश की वजह से कटी थी बिजली
जानकारी के मुताबिक, यह घटना शनिवार की है। दरअसल, बलिया जिले में भारी बरिश के बाद लोगों को बिजली कटौती का सामना करना पड़ा था। तकरीबन 1 घंटे तक बिजली कट रही थी। इस दौरान जिला अस्पताल में भी लाइट की व्यवस्था नहीं रही। ऐसे में डॉक्टरों ने मजबूरन टॉर्च की रोशनी में मरीजों का इलाज करने का रिस्क लिया।
 
प्रशासन की कार्यशैली पर हुए सवाल खड़े
इस दौरान कई लोगों का इलाज टॉर्च की रोशनी में होते हुए दिखा। वीडियो में एक महिला स्ट्रेचर पर लेटी हुई दिख रही है और डॉक्टर स्टेथोस्कोप से उसका चेकअप कर रहे हैं, जबकि एक व्यक्ति लाइट दिखाने के लिए खड़ा है। वीडियो वायरल होने के बाद अस्पताल प्रशासन के साथ स्थानीय प्रशासन और नेता के कामकाज पर सवाल खड़े हो रहे हैं।
 
अस्पताल के प्रमुख ने दी सफाई
बलिया जिला अस्पताल में हड्डी रोग सर्जन और प्रभारी प्रमुख डॉ आरडी राम ने कहा कि डॉक्टरों को अंधेरे का सामना ज्यादा नहीं सिर्फ 15-20 मिनट के लिए करना पड़ा था। उसके बाद जेनरेटर से लाइट आ गई थी। उन्होंने दावा किया कि अस्पताल में बैकअप के लिए जनरेटर है, लेकिन बैटरी मिलने में समय लगा, इसी वजह से अस्पताल में कुछ देर अंधेरा रहा था। उन्होंने कहा कि अस्पताल में बैटरी चोरी होने का डर हमेशा रहता है, इसलिए बैटरी को हटाकर अलग रखा हुआ था। इस घटना पर अभी तक राज्य सरकार की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है।

Related Articles

Back to top button