अपने अधिकारों के प्रति सजग होकर आगे बढ़े दलित समाज: मुख्यमंत्री

जयपुर। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने ‘शिक्षित बनो और आगे बढ़ो’ का नारा दिया था। उनके इस नारे को आत्मसात करते हुए दलित समाज को अपने अधिकारों के प्रति सजग होकर आगे बढ़ने की ललक पैदा करनी होगी।

श्री गहलोत गुरूवार को झालाना स्थित डॉ. भीमराव अम्बेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी द्वारा आयोजित डॉ. अम्बेडकर जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि दलित समाज के उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार ने उनके द्वारा लगाए जा रहे उद्यम में 25 प्रतिशत भागीदारी रीको की रखने का प्रावधान किया है। इससे उन्हें उद्यम को आगे बढ़ाने में मार्गदर्शन मिलेगा और अधिक से अधिक दलित युवा स्वयं का उद्यम लगा सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2022-23 का बजट गरीबों को समर्पित बजट है क्योंकि इसमें समाज के अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति की भलाई की दिशा में कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि एसटी-एससी वर्ग के कल्याण के लिए 500-500 करोड़ का प्रावधान किया गया है। चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में गरीबों को 10 लाख रूपये तक का निःशुल्क इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है। सरकारी अस्पतालों में आईपीडी एवं ओपीडी निःशुल्क कर दी गई है। अब अस्पताल में आने से लेकर वापस जाने तक गरीब व्यक्ति को एक भी रूपया खर्च नहीं करना पडेगा।

श्री गहलोत ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी द्वारा दलित समाज के उत्थान के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने सोसायटी द्वारा रखी गई मांगों का परीक्षण कराने और सकारात्मक निर्णय लेने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि राजस्थान ही एक ऎसा राज्य है जहां पदोन्नति में आरक्षण का प्रावधान है। यह निर्णय हमारी सरकार के पिछले कार्यकाल में किया गया था। इस बजट में हमारी सरकार ने पुरानी पेंशन योजना लागू कर 35 साल तक सरकार की सेवा करने वाले कर्मचारियों का बुढ़ापा सुरक्षित करने का कार्य किया है। साथ ही चिरंजीवी बीमा योजना से जुडी 1 करोड़ 33 लाख महिलाओं को स्मार्ट फोन वितरित किये जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में सामाजिक सुरक्षा की दिशा में उठाए गए कदमों को देखते हुए केन्द्र सरकार को भी कानून बनाकर देश के लोगों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना जैसी योजना केन्द्र सरकार भी लागू करे ताकि हर गरीब को निःशुल्क इलाज की सुविधा मिल सके। इसके अलावा प्रतिवर्ष करीब 200 प्रतिभाशाली बच्चों को सरकारी खर्च पर विदेश में पढ़ाई के लिए भेजा जा रहा है। उन्होंने सरकारी योजनाओं को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने का आह्वान किया।

कार्यक्रम में सामाजिक न्याय एवं अधिकारी मंत्री श्री टीकाराम जुली ने कहा कि कुछ ताकतें संविधान को कमजोर करने की दिशा में सक्रिय हैं। इन ताकतों को हमें पहचानना होगा और डॉ. अम्बेडकर के बताए मार्ग पर चलकर इनका मुकाबला करना होगा। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती ममता भूपेश ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने गरीब के बच्चों को अंग्रेजी स्कूलों में पढ़ाने का सपना पूरा करने के लिए महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय खोले हैं। उड़ान योजना में हजारों महिलाओं को सेनेटरी पेड मुफ्त बांटे जा रहे हैं। सार्वजनिक निर्माण मंत्री श्री भजनलाल जाटव एवं अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री खिलाडी लाल बैरवा ने भी अपने संबोधन में बाबा साहब के योगदान का जिक्र किया।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उल्लेखनीय सेवाओं के लिए पूर्व मुख्य सचिव श्री निरंजन आर्य, निशानेबाज एवं पैरालंपिक गोल्ड विजेता अवनी लेखरा, प्रो. श्याम लाल जेडिया, श्री रत्न कुमार सांभरिया सहित अन्य को भीम रत्न से सम्मानित किया। इसके अलावा आईएएस में पदोन्नत डॉ. घनश्याम बैरवा, श्री हरजी लाल अटल, श्री टीकम चंद बोहरा, डॉ. ओमप्रकाश बैरवा को भी सम्मानित किया गया। निबंध, चित्रकला एवं भाषण प्रतियोगिता के विजेता बच्चों को भी पुरस्कार वितरित किए गए।

कार्यक्रम की शुरूआत में डॉ. भीमराव अम्बेडकर मेमोरियल वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष श्री भजन लाल रोलन एवं श्री अनिल गोठवाल ने मुख्यमंत्री व अन्य अतिथियों का स्वागत करते हुए संस्था द्वारा दलित उत्थान की दिशा में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी।

Related Articles

Back to top button