खुलासा: चारे में रेत, रसायनिक पानी पीने से हुई मौत; आयुक्त और सफाई निरीक्षक निलंबित

बाड़मेर
राजस्थान के बाड़मेर जिले की एक सरकारी गौशाला में सैकड़ों गोवंश की मौत के मामलें अब बड़ा खुलासा हुआ है। राजस्थान गोसेवा आयोग के अध्यक्ष के निर्देशों पर जिला कलेक्टर द्वारा गठित कमेटी ने जांच रिपोर्ट में माना है कि चारे में रेत और रासायनिक पानी पीने से गोवंश की मौत हुई है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करते हुए सरकार ने बालोतरा नगर परिषद के आयुक्त शिवपाल सिंह राजपुरोहित व सफाई निरीक्षक ओमप्रकाश को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।

10 दिनों में 150 गोवंश की मौत
गौरतलब है कि बीते दिनों राजस्थान गोसेवा आयोग अध्यक्ष के गृह जिले में सैकड़ों गोवंश की अकाल मौत का मामला सामने आया था। सरकारी लापरवाही के चलते जिले के बालोतरा खंड मुख्यालय पर जैरेला रोड पर बालोतरा नगर परिषद द्वारा सचालित गोशाला में सैकड़ों की तादाद में गोवंश की मौत हो गयी थी। स्थानीय लोगों के प्रर्दशन के बीच गोशाला के संयुक्त निरीक्षण के दौरान पिछले 10 दिनों में करीब 150 गोवंश की अकाल मौत और रोजना करीब तीन से चार गोवंश की मौत होने की जानकारी सामने आई। मामला सामने आने के बाद अब सरकार और प्रशासन दोनों हरकत में आए हैं। राजस्थान गोसेवा आयोग के अध्यक्ष मेवाराम जैन के निर्देशों पर जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई थी।

अब जांच कमेटी ने दी रिपोर्ट
राजस्थान गोसेवा आयोग के अध्यक्ष के निर्देशों पर जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनी कमेटी ने अब अपनी रिपोर्ट दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि चारे में रेत और पानी में कीड़े होने के कारण गायों की मौत हुई। इतना ही नहीं, गायों के शवों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके पेट में बहुत मात्रा में प्लास्टिक और रेत जमा होने की जानकारी सामने आई। रिपोर्ट में यह भी सामने आया कि इतनी बड़ी गौशाला में 300 पशुओं की देखरेख का जिम्मा एक आदमी के पास था, जबकि नियमानुसार तीन लोगों को रखा जाना था। वहीं छाया की पूर्ण व्यवस्था नहीं होने, पशुओं की स्वास्थ्य जांच नहीं होने का भी उल्लेख किया गया। जिला कलेक्टर ने सरकार को भेजी अपनी इस रिपोर्ट में बालोतरा नगर परिषद के अधिकारियों को दोषी माना।

अब आयुक्त और सफाई निरीक्षक निलंबित
जिला कलेक्टर की जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करते हुए बालोतरा नगर परिषद आयुक्त शिवपाल सिंह राजपुरोहित व सफाई निरीक्षक ओमप्रकाश को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया है। 

Related Articles

Back to top button