बेटी के इलाज के लिए भटकता रहा पिता, नहीं मिली एम्बुलेंस, तड़प-तड़पकर मौत

वाराणसी

वाराणसी में सरकारी दावों की एक बार फिर पोल खुली है। एम्बुलेंस नहीं मिलने के कारण 15 साल की किशोरी की मौत हो गई है। किशोरी को लेकर परिजन पहले इलाके के निजी अस्पतालों का चक्कर काटते रहे लेकिन कुछ दिनों से अस्पतालों में चल रही छापेमारी के कारण किसी ने भर्ती नहीं किया। इस पर माता-पिता सड़क किनारे ही बेटी को लेकर पड़े रहे और एम्बुलेंस का इंतजार करते रहे। किसी ने 112 पर जानकारी दी तो पुलिस पहुंची। पुलिस ने भी एम्बुलेंस को फोन किया। तब भी नहीं आई तो अपनी गाड़ी में पुलिस ने किशोरी को लाद लिया। लेकिन तब तक देरी हो चुकी थी।

रोहनिया थाना क्षेत्र के जमीन बैरवन की दलित बस्ती के ओमप्रकाश को दो बेटियां सुषमा (15), सुष्मिता (10) और दो साल के बेटा देवशंकर समेत छह बच्चे हैं। रात में सुषमा ने खाना बनाया। सभी खाकर सो गये। रात में तीनों बच्चों को उल्टी, दस्त और पेट दर्द शुरू हो गया। ओमप्रकाश और उसकी पत्नी रेखा तीनों बच्चों को साइकिल पर लेकर घर से निकले और आसपास के कई क्लीनिक पहुंचे। कुछ दिनों से अस्पतालों में चल रही छापेमारी के कारण किसी ने भर्ती नहीं किया।

इसके बाद सुबह करीब आठ बजे मोहनसराय चौराहे पर आये। सरकारी एंबुलेंस के लिए 108 मिलाया। दो घंटे बाद भी एंबुलेंस नहीं आई। इस दौरान सड़क किनारे बेटी छटपटाती रही। किसी ने डायल 112 पर सूचना दी।

 

Related Articles

Back to top button