सलखनिहा के जंगल में हुई अंधीहत्या का पुलिस ने किया पर्दाफाश,चाचा और भाई ने रची थी हत्या की साजिश

उमरिया

 जिले के इंदवार थाना अंतर्गत सलखानिया के जंगल में बीते दिनों हुए अंधे हत्याकांड के मामले में पुलिस ने मामले का पर्दाफाश करने में सफलता हासिल की है। जिसमें बताया गया कि मृतक का चाचा और उसके भाई ने रची थी उसके हत्या की साजिश। जिसके बाद पुलिस ने मृतक के चाचा, भाई और उनके अन्य साथियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी कर न्यायालय में पेश किया गया है। इस मामले में एक आरोपी फरार बताया जा रहा है।

घटना के संबंध में बताया गया कि बीते 27 सितंबर को पुलिस को फरियादी विजय जायसवाल के द्वारा सूचना दी गई कि सलखनिहा के जंगल में उसके चाचा रामलखन जायसवाल का शव पड़ा हुआ है।सूचना पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुँचकर प्राथमिक कार्यवाही शुरू की गई एवं फरियादी की रिपोर्ट पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध धारा 302 ताहि के तहत प्रकरण कायम कर विवेचना में लिया गया। मामले की गंभीरत को देखते हुये पुलिस अधीक्षक जिला उमरिया द्वारा विवेचना एवं आरोपी की गिरफ्तारी के संबंध में विवेचना टीम को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।

 

इस दौरान विवेचना टीम को मुखबिर की सूचना के आधार पर संदेही रामखेलावन जायसवाल, आशीष जैसवाल,धर्मवीर मौर्य से सख्ती और बारीकी से पूछताछ की गई तो पूरा मामला सामने आ गया आरोपियों के द्वारा बताया गया कि मृतक रामलखन का अपने चाचा रामखेलावन के परिवार के साथ जमीनी विवाद को लेकर आये दिन विवाद होता था। जिस पर आरोपीगण रामखेलावन जायसवाल, आशीष जैसवाल, धर्मवीर मौर्य प्रमोद मौर्य (धर्मवीर का साथी) ने मिलकर रामलखन जायसवाल (मृतक) को रास्ते से हटाने का योजना बनाई थी।

इसके बाद दिनांक 27 सितंबर को जब मृतक रामखेलावन कही अपने रिस्तेदारी में जा रहा था तभी रास्ते मे सलखनिया के जंगल मे योजनाबद्ध तरीके से धर्मवीर मौर्य एवं उसके साथी प्रमोद मौर्य के द्वारा रामलखन जायसवाल की सलखनिहा जंगल में गमछे से गला दबाकर हत्या कर ही गई ।आरोपीगणो द्वारा अपना जुर्म कबूल करने पर तीनो आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय पेश किया गया। मामले में 1 आरोपी फरार है जिसे शीघ्र ही गिरफ्तार किया जावेगा ।

 

Related Articles

Back to top button