गृह ज्योति योजना के तहत इंदौर-उज्जैन संभाग में129 करोड़ की सब्सिडी

इंदौर
मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी गृह ज्योति योजना से अधिकाधिक पात्र उपभोक्ताओं को बिल में राहत प्रदान कर लाभान्वित कर रही है। मालवा और निमाड़ के सभी 15 जिलों में एक माह के दौरान 28.83 लाख उपभोक्ताओं को एक रुपये यूनिट की दर से बिजली उपलब्ध करवाई है। इन पात्र उपभोक्ताओं को प्रथम 100 यूनिट तक बिजली एक रुपये यूनिट की दर से प्रदान की गई है। इससे शासन की ओर से उपभोक्ताओं को 129 करोड़ रुपये की सब्सिडी प्रदान की गई है।

मप्रपक्षेविविकं के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने बताया कि बीते एक माह के दौरान इस योजना से 28.83 लाख उपभोक्ता लाभान्वित हुए हैं। प्रत्येक पात्र उपभोक्ता को 300 से 552 रुपये तक की सब्सिडी दी गई है। कंपनी क्षेत्र के सभी पात्र उपभोक्ताओं को एक माह में ही 129 करोड़ रुपये की राहत मिली है। इन 28.83 लाख उपभोक्ताओं के एक माह की खपत के बिल 100 से 500 रुपये तक प्रदान किए गए हैं। तोमर ने बताया कि 15 जिलों में सबसे ज्यादा इंदौर जिले में लगभग साढ़े तीन लाख उपभोक्ताओं को लाभ दिया गया है। इंदौर जिले में कंपनी के ही धार, देवास, बड़वानी, खरगोन, मंदसौर, रतलाम, उज्जैन आदि जिलों में भी सवा दो लाख उपभोक्ता लाभान्वित हुए हैं।

30 दिन में 150 यूनिट तक की पात्रता – तोमर ने बताया कि अन्य जिलों में भी एक लाख से पौने दो लाख उपभोक्ताओं को पात्रता अनुसार एक रुपए यूनिट की दर से प्रथम 100 यूनिट तक बिजली प्रदान की गई है। योजना के क्रियान्वयन में दैनिक पांच यूनिट खपत की पात्रता आती है। तीस दिन में 150 यूनिट से ज्यादा खपत आने पर माह विशेष के लिए पात्रता समाप्त हो जाती है। प्रबंध निदेशक ने बताया कि ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के निर्देशानुसार कंपनी के कर्मचारी, अधिकारियों द्वारा उपभोक्ताओं से योजना लाभ के संबंध में फीडबैक भी लिया जा रहा है।

पालदा के उद्योगपतियों ने बताई समस्या – मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों के साथ पालदा औद्योगिक क्षेत्र की इकाइयों के संचालकों की बैठक हुई। इसमें उद्योग क्षेत्र की विद्युत संबंधी समस्याओं के त्वरित निराकरण की बात कही गई। वोल्टेज के उतार-चढ़ाव, वितरण ट्रांसफार्मरों कों कवर करने, ट्रिपिंग में कमी लाने के कार्य पर एक सप्ताह में अमल करने के शहर अधीक्षण यंत्री मनोज शर्मा एवं कार्यपालन यंत्री डीके तिवारी ने उच्चदाब और जोन प्रभारियों को निर्देश दिए। औद्योगिक क्षेत्र के खंडेलवाल कंपाउंड और विनायक फीडर के विभाजन के लिए प्राक्कलन तैयार करने के भी निर्देश दिए गए। इस अवसर पर पालदा औद्योगिक संघ के अध्यक्ष प्रमोद जैन, सचिव अभय अग्रवाल, सदस्य पुष्पेंद्र हार्डिया, अंकित रिजवानी आदि ने विचार, सुझाव प्रस्तुत किए।

Related Articles

Back to top button