MP News : बजट से पहले 3 हजार करोड़ का कर्ज लेगी प्रदेश सरकार

Latest MP News : राज्य सरकार राज्य की योजनाओं, इन्फ्रास्ट्रक्चर के कामों को पूरा करने के लिए बिड्स बुलाएगी और एक मार्च को ही तीन हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेगी।

Latest MP News : उज्जवल प्रदेश, भोपाल. राज्य का बजट सत्र सोमवार 27 फरवरी से शुरु होने जा रहा है और विधानसभा में एक मार्च को बजट पेश किया जाना है इसके एक दिन पहले ही राज्य सरकार राज्य की योजनाओं, इन्फ्रास्ट्रक्चर के कामों को पूरा करने के लिए बिड्स बुलाएगी और एक मार्च को ही तीन हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेगी। एक महीने में ही यह पांचवा मौका है जब राज्य सरकार कर्ज ले रही है।

राज्य सरकार बीस साल के लिए तीन हजार करोड़ का कर्ज लेने जा रही है। 28 फरवरी को इसके लिए रिजर्व बैंक के मुंबई स्थित कार्यालय से ई कुबेर सिस्टम पर कोर बैंकिंग साल्यूशन के लिए यह कर्ज लेगी। वित्तीय संस्थाएं इसके लिए आॅनलाईन प्रस्ताव दे सकेंगी। सुबह साढ़े दस से साढ़े ग्यारह बजे के बीच राज्य सरकार को तीन हजार करोड़ रुपए का कर्ज देने संस्थाएं जो प्रस्ताव देंगी उनमें से राज्य की शर्तों पर राज्य को कर्ज देने के सफलतम बिडर्स के प्रस्ताव पर एक मार्च को यह कर्ज उठाया जाएगा। इस कर्ज की अदायगी बीस साल में की जाएगी।

केवल फरवरी माह में पांचवी बार कर्ज

राज्य सरकार एक माह में चार बार कर्ज ले चुकी है और अब पांचवी बार कर्ज ले रही है। एक फरवरी को दो हजार करोड़ का कर्ज पंद्रह वर्ष के लिए लिया गया था। इसके बाद आठ फरवरी को दूसरी बार तीन हजार करोड़ का कर्ज दस वर्ष के लिए लिया गया। तीसरी बार पंद्रह फरवरी को तीन हजार करोड़ का कर्ज चौदह वर्ष के लिए लिया गया।

चौथी बार 22 फरवरी को तीन हजार करोड़ का कर्ज 15 वर्ष के लिए लिया गया। अब पांचवी बार 28 फरवरी को बीस वर्ष के लिए तीन हजार करोड़ के कर्ज के लिए प्रस्ताव बुलाए है। यह कर्ज एक मार्च को सरकार लेगी। इसी दिन राज्य का बजट पेश किया जाएगा।

प्रदेश पर कुल दो लाख 95 हजार करोड़ रुपए लोन

राज्य सरकार पर पहले से ही दो करोड़ 95 लाख 53 हजार करोड़ का कर्ज है। इसमें बांड के जरिए ली गई राशि 7 हजार 360 करोड़, वित्तीय संस्थाओं का कर्ज 7 हजार 360 करोड़, लोन एवं एडवांस केन्द्र सरकार से 44 हजार 675 करोड़, अन्य दायित्व 22 हजार 208 करोड़ और राष्टÑीय बचज पत्र योजना के जरिए स्पेशल सिक्युरिटी से मिले 3 हजार 756 करोड़ का कर्ज बाकी है।

Related Articles

Back to top button