केन्द्र सरकार किसानों के कल्याण के लिये कटिबद्ध है – केन्द्रीय मंत्री तोमर

मुरैना
केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि केन्द्र व राज्य सरकार किसानों के कल्याण के लिये पूरी तरह से कटिबद्ध है। वे किसानों को हर हाल में खुश देखना चाहती है। इसलिये खेती पर नये-नये नवाचार किये जा रहें है। यह बात उन्होंने पोरसा विकासखण्ड के अन्तर्गत 399.26 लाख रूपये के भूमिपूजन एवं 979.32 लाख रूपये के निर्माण कार्यो का लोकार्पण करते समय कही। इस अवसर पर अम्बाह विधायक श्री कमलेश जाटव, ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष श्री गिर्राज डंडोतिया, जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती गीता हर्षाना, भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. योगेशपाल गुप्ता, कलेक्टर श्री बी.कार्तिकेयन, पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष बागरी, जिला पंचायत के सीईओ श्री रोशन कुमार सिंह, एसडीएम अम्बाह, तहसीलदार, जनपद सीईओ, पूर्व मंत्री श्री मुंशीलाल, पूर्व विधायक श्री शिवमंगल सिंह तोमर, गणमान्य नागरिक, पार्टी कार्यकर्ता सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।   
 
केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि मध्यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण परियोजना के अन्तर्गत अम्बाह विकासखण्ड रजौधा से एलएन रोड़ व्हाया सांठो, खड़िया-पोरसा की लागत 513.51 लाख रूपये है, जिसकी लंबाई 8.343 किलोमीटर है, जिसका लोकार्पण किया। इसके अलावा सेंथरा अहीर से मोतीराम का पुरा तक 17.05 लाख रूपये की लागत से 0.620 किलोमीटर लंबी, पाली रोड़ से अमली पुरा तक 65.1 लाख रूपये की लागत से 2.550 किलोमीटर और पोरसा खेरली रोड़ से गिरवर का पुरा तक 34.5 लाख रूपये की लागत से 1.200 किलोमीटर की लंबी सड़क का भूमिपूजन किया। इसी प्रकार लोक निर्माण विभाग द्वारा रामगढ़ से चुस्लई 282.61 लाख रूपये की लागत से 2.92 किलोमीटर लंबी सड़क का भूमिपूजन किया। तथा जोंटई रोड़ से जनक पुर तक 77.60 लाख रूपये की लागत से 2.37 किलोमीटर लंबी, धोंरेंटा से लला का पुरा मार्ग तक 47.90 लाख रूपये की लागत से 1.10 किलोमीटर, धुरंदर का पुरा से साधू सिंह का पुरा तक 49.62 लाख रूपये की लागत से 1.03 किलोमीटर लंबी, मटिया पुरा मार्ग से लक्ष्मीनारायण सिंह का पुरा मार्ग तक 76.75 लाख रूपये की लागत से 2.10 किलोमीटर लंबी और अधन पुर से बाग का पुरा मार्ग तक 33.20 लाख रूपये की लागत से 0.84 किलोमीटर लंबी सड़कों का लोकार्पण किया। इसके अलावा केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कीचौल में 27 लाख 72 हजार, विजयगढ़ में 37 लाख 85 हजार, बुधारा में 27 लाख 72 हजार रूपये की लागत से 3 गौशालाओं का लोकार्पण किया। उन्होंने कसमड़ा, पाली, बुधारा में 10-10 लाख रूपये की लागत से सामुदायिक भवन और सांठों में 12 लाख रूपये की लागत से सामुदायिक भवनों का लोकार्पण किया। इसके अलावा केन्द्रीय मंत्री ने बिण्डवा, महुआ, लुधावली, रायपुर, एडीमल का पुरा और सिकहरा में 46 लाख 80 हजार रूपये की लागत से आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण किया।      

केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि पार्टी के कार्यक्रम निरंतर चलते रहते हैं, उस योजना के अंतर्गत आज देश भर में किसानों पर बातचीत की जा रही है। केन्द्र सरकार किसानों के हितों के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री बनने के बाद लगातार इस बात की कोशिश की है कि किसान की माली हालत में सुधार हो और हमारी कृषि उन्नत कृषि के रूप में तब्दील हो।

इसके लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं केंद्र सरकार ने प्रारंभ की है। जिनका फायदा किसानों को मिल रहा है। पीएम किसान सम्मान निधि योजना दुनिया में अद्भुत योजना है और इतनी बड़ी संख्या में योजना का सीधा लाभ किसी अन्य देश में भी नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि फरवरी 2019 में गोरखपुर के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने किसान सम्मान निधि योजना प्रारंभ की थी, इस योजना के अंतर्गत कुछ अपवर्जन को छोड़कर, जिसमें प्रमुख रुप से इनकम टैक्स देते हैं, ऐसे कृषकों को छोड़कर बाकी शेष किसानों को इसका लाभ देश भर में मिल रहा है। उन्होंने कहा कि यह अपने आप में अद्भुत योजनाएं और इसका लाभ किसानों को मिल रहा है। इस योजना के अंतर्गत 1 वर्ष में 6000 रूपये तीन किस्तों में किसानों में दिये जाते है। अब किसानों को छोटा-मोटा कर्ज लेने की जरूरत नहीं पड़ती है। अब साहुकार से कर्ज लेने से किसानों को मुक्ति मिली है और किसान लगातार आगे बढ़ने की कोशिश कर रहें है।

केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि इसी प्रकार हम देखते हैं कि कृषि क्षेत्र में निवेश की कमी थी और जो इंफ्रास्ट्रक्चर अपेक्षित था, वह गांव-गांव में अभी तक नहीं बन पाया, इसलिए एक लाख करोड़ रुपए के एग्रीकल्चर फंड को बनाया गया। इस फंड के माध्यम से गांव-गांव में वेयरहाउस कोल्ड स्टोरेज लगाने का इंतजाम किया जा रहा है। इसमें कृषि उपज मंडी के एफपीओ राज्य सरकार, केंद्र संस्थान आगे आ सकते हैं। मुझे लगता है कि सभी राज्य मिलकर इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने की कोशिश कर रहे हैं और हम लोग लगातार बैंक से संपर्क करके ऋण डिसबर्स करा रहे हैं। नए बीजों की किस्में लगातार जारी हो रही है। नए-नए बीजों से उत्पादकता बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादन निरंतर बड़ रहा है, कृषि के क्षेत्र में प्रगति होती जा रही है। निर्यात की दृष्टि से अभूतपूर्व निर्यात में वृद्धि हुई है, इससे भारत की साख बढ़ी है और भारत को दुनिया में पसंद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जैविक खेती पर भी बल प्रदान कर रहे हैं, जैविक खेती वाले जो किसान हैं, उन्हें आर्थिक सहायता दी जा रही है। ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर उपयोग करें, इसके लिए भी सहायता दी जा रही है और प्राकृतिक खेती पर बल दिया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button