टाइम लिमिट में कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के DGP के निर्देश

भोपाल
प्रदेश की कानून व्यवस्था दुरुस्त करने के मद्देनजर प्रदेश पुलिस के मुखिया ने पुलिस कप्तानों के पेंच कसना शुरू कर दिए हैं। डीजीपी ने 136 बिन्दुओं का पालन करने के निर्देश सभी पुलिस अधीक्षकों को दिए हैं। इन बिन्दुओं का पालन करने के लिए पुलिस कप्तानों को मैदान में उतरना पड़ेगा। इन बिन्दुओं के पालन में असफल रहने वाले पुलिस अधीक्षकों को कप्तानी से हाथ धोना पड़ सकता है।

डीजीपी सुधीर सक्सेना के 136 बिंदुओं का यदि पुलिस अधीक्षकों ने पालन नहीं किया तो उनकी जिलों से छुट्टी कर, पुलिस मुख्यालय में पदस्थ कर दिया जाएगा। इन बिंदुओं पर काम करने में कई पुलिस अधीक्षकों को अब पसीना आ रहा है। इनको फॉलो करवाने के चलते अब पुलिस अधीक्षकों को अधिकांश समय फील्ड में देना अनिवार्य होगा। सूत्रों की मानी जाए तो पुलिस मुख्यालय के एक एडीजी ने इन बिंदुओं को अंतिम रूप दिया है। इसमें पुलिस मुख्यालय की सभी शाखाओं से जुड़े हुए दिशा निर्देश हैं। डीजीपी सुधीर सक्सेना ने इन बिंदुओं को पुलिस अधीक्षकों को भेज दिए हैं। इसका पालन करने के निर्देश देने के साथ ही डीजीपी ने भी प्रदेश में पुलिस प्रशासन को चलाने के स्पष्ट संकेत दिए हैं।

इसके जरिए वे पुलिस में भारी कसावट लाना चाहते हैं और मैदानी हर अफसर को मैदान में मोर्चा संभालते हुए देखना चाहते हैं। इन बिंदुओं पर आने वाले कुछ दिनों में रिजल्ट नहीं मिला तो प्रदेश के कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों को बदला जा सकता है। यह बदलाव जल्द ही देखने को मिल सकता है। नए डीजीपी को सख्त और नियमों से काम करवाने के लिए अपने महकमे में जाना जाता है। इसी तर्ज पर उन्होंने प्रतिनियुक्ति से वापस लौटकर अपने अंदाज दिखाना शुरू कर दिए हैं।

छोटे से छोटे अपराधों की हो निगरानी
डीजीपी गंभीर अपराधों के साथ ही छोटे अपराधों पर भी वे एसपी की सीधी मॉनिटरिंग चाहते हैं। आदतन अपराधियों को लगातार निगरानी, व्यस्त चौक-चौराहों पर पुलिस की तैनानी के साथ ही व्यवस्थित यातायात के लिए पुलिस अधीक्षकों को ही मैदान में उतरना होगा।

महिला, दलित अपराधों की मॉनिटरिंग
पुलिस मुख्यालय की अपराध शाखा, एजेके शाखा से भी जुड़े हुए कुछ बिंदुओं पर पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं। इनमें महिला अपराधों और अनुसूचित जाति- अनुसूचित जनजाति की भी बिंदुवार मॉनिटरिंग करना होगी। वहीं इंटेलिजेंस विंग से जुड़े भी दस बिंदुओं पर पुलिस अधीक्षकों को डीजीपी ने निर्देश दिए हैं।

करप्ट अफसरों पर तुरंत लिया जाए एक्शन
अफसरों के भ्रष्टाचार पर नजर रखने के साथ ही उन पर तत्काल एक्शन अब एसपी को लेना होगा।

एसपी रखेंगे जिले के पुलिस बल का रिकॉर्ड अपडेट
प्रशासन शाखा के बिंदुओं के तहत जिले के पूरे  पुलिस बल का पूरा रिकॉर्ड भी अपडेट रखना होगा।

Related Articles

Back to top button