20 से 22 जून तक पूरे प्रदेश में जोरदार बारिश

भोपाल

 

देश में आने वाले इस बार के मानसून को लेकर पूर्वानुमान लगने शुरु हो गए है। एक और जहां जानकार इसे काफी अच्छा मान रहे हैं। वहीं कुछ का यह भी कहना है कि ये मानसून इस साल कहर ढ़ाने जैसे स्थिति भी उत्पन्न कर सकता है।

मौसम के जानकारों के अनुसार केरल में मानूसन की आवक के बाद अब करीब 9 जून से पूरे मध्यप्रदेश में जगह जगह हल्की बारिश का दौर शुरु होने वाला है। वहीं भोपाल में मानसून का आगमन 15 जून के बाद होगा। वहीं इस बार मानसून का दो तरफ से प्रवेश (बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से) काफी जिलों को खासा नुक्सान पहुंचा सकता है।

जानकारों के अनुसार ऐसे में इस बार 20 से 22 जून तक पूरे प्रदेश में जोरदार बारिश होने की संभावना बनी हुई है। जबकि मध्यप्रदेश में मानसून का आगमन 16-20 जून के बीच होने की संभावना है।

इस बार के भारतीय मौसम के संबंध में भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि इस बार देश में औसत बारिश अच्छी रहेगी। माना जा रहा है कि मध्यप्रदेश के कुछ क्षेत्रों में आगामी 3 से 5 दिन कुछ हद तक शुष्क बने रहेंगे। वहीं 3 से 4 जून तक मानसून केरल के साथ-साथ तमिलनाडु और कर्नाटक में आगे बढ़ेगा। इस दौरान त्रिपुरा, मिजोरम, असम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर और नगालैंड में भी बारिश होगी।

दरअसल इस बार मानसून निर्धारित समय एक जून से तीन दिन पहले रविवार को केरल पहुंच गया था। जिसके बाद से ही वर्षा ऋतु की शुरुआत हो चुकी है। यूं तो मानसून केरल और तमिलनाडु के कई हिस्सों में आगे बढ़ा है। लेकिन मौसम-तंत्र की बंगाल की खाड़ी वाली शाखा कुछ कमजोर दिख रही है। ऐसे में पूर्वोत्तर भारत में मानसून की गति कुछ हद तक धीमी रह सकती है।

कब कहां पहुंचेगा मानसून
01 जून लक्षद्वीप, पुड्डुचेरी, तमिलनाडु
03 जून कर्नाटक, असम, मेघालय
04-07 जून महाराष्ट्र, तेलंगाना, सिक्किम
08-15 जून छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड
16-20 जून मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, गुजरात

MP के सिवनी में आंधी-बारिश से तबाही
मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में सोमवार को तेज आंधी और बारिश ने शहर व आसपास के क्षेत्रों में भारी तबाही मचाई। सब्जी मंडी में करीब 50 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। दर्जनों दुकानों के टीनशेड उखड़ गए। प्याज, लहसुन, आलू, फलीदाना व अन्य सामग्री भीग गए।

दुकानें खुली होने से अफरा-तफरी मच गई। कई जगहों पर पुराने पेड़ व टहनियां टूटकर गिर गईं। मठ स्कूल की दीवार गिर गई। शहर के 12 से ज्यादा स्थानों पर मकान के क्षतिग्रस्त होने की सूचना है। इससे लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी।

Related Articles

Back to top button