इंदौर निगम ने इस वर्ष राजस्व वसूली में 700 करोड़ का लक्ष्य प्राप्त किया

 इंदौर
नगर निगम ने राजस्व वसूली में इस वर्ष के वसूली के 700 करोड़ रुपये के लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। 31 मार्च को वित्तिय वर्ष का अंतिम दिन होने के कारण करदाताओं को अधिभार में 100 फीसद छूट दी गई थी। इस छूट का कई लोगों ने फायदा उठाया और गुरुवार को निगम के खातें में 20 करोड़ रुपये की राशि पहुंची। गुरुवार देर रात तक निगम के जोनल कार्यालयों पर जमा राशि की गिनती जारी रही। गुरुवार को सर्वर में दिक्कत आने के कारण जोनल कार्यालयों पर कर जमा होने के बाद एंट्री करने में निगम कर्मचारियों को परेशानी भी हुई।

वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन गुरुवार को निगम के खाते में संपत्तिकर, जलकर, कचरा संग्रहण शुल्क, लाइसेंस संबंधित करीब 20 करोड़ रुपये की राशि पहुंची। इस तरह निगम ने इस वर्ष व राजस्व वसूली के 700 करोड़ रुपये के आंकड़े को भी पार किया। गुरुवार देर शाम तक निगम मुख्यालय व जोनल कार्यालयों के काउंटर खुले रहे है। जोनल कार्यालयों पर करदाताओं की सुविधा के लिए टेंट लगाए गए थे और पीने के पानी व बैठने के लिए कुर्सी का इंतजाम किया गया था। गुरुवार शाम सात बजे निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने नेहरु स्टेडियम जोन के करदाताओं की दी जा रही सुविधा व कैश काउंटर का निरीक्षण किया।

आयुक्त ने जोन में मौजूद करदाताओं से चर्चा भी की और जोन पर मौजूद कर्मचारियों को अंतिम करदाताओं के आने तक कैश काउंटरों को खुला रखने के निर्देश दिए थे। निगम द्वारा अब बकायादारों पर सख्ती की तैयारी की जा रही हैं। 50 हजार रुपये से एक लाख रुपये तक बकाया करदाताओं को सूची बनाई जा रही है। अब निगम द्वारा ऐसे करदाताओं को उनकी संपित को चिन्हित कर कुर्की व जब्ती की कार्रवाई भी की जाएगी। निगम द्वारा इसके संबंध में जल्द ही बड़े बकायादारों को जब्ती व कुर्की का नोटिस जारी करेगा।

Related Articles

Back to top button