Income Tax Raid : इंदौर में BCM Group के 40 ठिकानों पर आयकर छापे

Income Tax Raid In Indore : कोकिला बेन अंबानी अस्पताल शुरू कर चर्चा में आए बीसीएम ग्रुप पर आयकर विभाग ने छापा मारा है। यह ग्रुप इंदौर के बड़े रियल एस्टेट कारोबारियों में शुमार है। समूह के 40 से ज्यादा ठिकानों पर आयकर विभाग की टीमें सुबह 9 बजे एक साथ छापा मारने पहुंची।

Income Tax Raid In Indore : उज्जवल प्रदेश, इंदौर. रिलायंस समूह के साथ कोकिला बेन अंबानी अस्पताल शुरू कर चर्चा में आए बीसीएम ग्रुप पर आयकर विभाग ने छापा मारा है। यह ग्रुप इंदौर के बड़े रियल एस्टेट कारोबारियों में शुमार है। समूह के 40 से ज्यादा ठिकानों पर आयकर विभाग की टीमें सुबह 9 बजे एक साथ छापा मारने पहुंची। बीसीएम ग्रुप ने शहर में कई बड़े प्रोजेक्ट तैयार किए है और समूह के साथ जुड़कर कई लोगों ने रेशो डील के जरिए रियल एस्टेट कारोबार में तगड़ा निवेश कर रखा हैै। आयकर की टीमें उनके यहां भी पहुंची है। भागीदारों को मिलाकर कुल 40 से ठिकानों पर सुबह से जांच जारी है।

इंदौर मेें आयकर विभाग की निगाहे रियल एस्टेट कारोबारियों पर है। जनवरी मेें विभाग ने आठ समूहों के यहां छापे मारकर कर चोरी पकड़ी थी और फरवरी के पहले सप्ताह में इंदौर के बड़े बीसीएम समूह पर छापा मार दिया। सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग की बड़ी टीम विजय नगर स्थित समूह के दफ्तर में पहुंची। इसके अलावा मुंबई, बेंगलूरु और कोलकाता में भी समूह से जुड़े लोगों के यहां जांच के लिए टीमें गई है।

रियल एस्टेट के अलावा होटल और अस्पताल में भी निवेश

बीसीएम समूह ने रिलायंस समूह के अस्पताल कोकिलाबेन धीरुभाई अंबानी के साथ पाटर्नर है। जनवरी माह में अस्पताल का लोकार्पण हुआ था और अभिनेता अमिताभ बच्चन और जया बच्चन अस्पताल का शुभारंभ करने इंदौर आए थेे। इंदौर में शुरू हुए इस अस्पताल के लिए जमीन बीसीएम समूह ने ही दी।समूह इंदौर में जोडिएक माल व अन्य प्रोजेक्ट भी ला चुका है। दस से ज्यादा बड़े अपार्टमेेंट समूह ने इंदौर मेें प्राइम लोकेशनों पर बनाए है। समूह ने इंदौर में एक होटल भी बनाया था, लेकिन बाद मेें उसे बेच दिया। समूह नमकीन कारोबार से भी जुड़ा हैै।

सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग ने छापा मारने से पहले समूह से जुड़े तथ्य जुटाए थेे। बताते है कि समूह के प्रोजेक्ट के लिए डेढ़ माह पहले कुछ आयकर विभाग के अधिकारी खरीदार बनकर पहुंचे थे। कागज पर कम दामों पर बिक्री दिखाने की पुष्टी होने के बाद छापे की योजना तैयार हुई। बीसीएम समूह के डायरेक्टरों में राजेश मेहता, अरुण मेहता, नवीन मेहता, रोहिन मेहता व ऋषभ मेहता के नाम शामिल है।

गाइडलाइन वैल्यू और बाजार वैल्यू में फर्क नेताओं-अफसरों के निवेश की भी आशंका

आयकर सूत्रों के अनुसार इस ग्रुप द्वारा किए जाने वाले कारोबार में बाजार मूल्य और कलेक्टर गाइडलाइन मूल्य के भारी हेरफेर किया जाता है। कई स्थानों पर कलेक्टर गाइडलाइन से चार गुना तक मूल्य पर प्रोजेक्ट कास्ट तय कर लोगों को रजिस्ट्री कराई गई है।

आयकर विभाग ने इसकी तहकीकात और दस्तावेज रिकार्ड करने के बाद इस ग्रुप पर कार्यवाही की जा रही है। इस ग्रुप की लोकप्रियता के चलते इसमें कई बड़े अधिकारियों और राजनेताओं का भी पैसा लगा होने की बात कही जा रही है। ग्रुप की शैल कम्पनियों और अन्य लेखा विवरणियों में भी हेरफेर की आशंका अफसरों ने जताई है।

पिछले माह यहां पड़े थे छापे

इंदौर में दिसम्बर 2022 में रियल एस्टेट समूह स्काय अर्थ और हाई लिंक ग्रुप के यहां छापेमारी हुई थी। स्काय अर्थ समूह के सत्यसाईं चौराहा स्थित मुख्य दफ्तर समेत डायरेक्टर के रूप में जुड़े सागर चावला, निम्मी चावला और गोविंद चावला के साथ नीरज सचदेवा के यहां भी जांच हुई थी। हाई लिंक ग्रुप से जुड़े वीरेंद्र गुप्ता व उनके परिवार के ठिकानों पर विभाग ने जांच की थी। इन दोनों समूह से जुड़े संजय कासलीवाल, रमेश खेमानी समेत कुछ ब्रोकर भी जांच के दायरे में आए थे।

 

Show More

Related Articles

Back to top button