Khirkiya News: लंपी वायरस की खिरकिया नगर में दस्तक, गौपालकों में खौफ

Khirkiya News: खिरकिया नगर में भी पशुओं को होने वाली खतरनाक लंपी वायरस ने दस्तक दे दी है। जिसके कारण गौपालकों व आम लोगों में भी भय व्याप्त हो गया है।

ललित बाथोले, खिरकिया

Khirkiya News: खिरकिया नगर में भी पशुओं को होने वाली खतरनाक लंपी वायरस ने दस्तक दे दी है। जिसके कारण गौपालकों व आम लोगों में भी भय व्याप्त हो गया है। जानकारी के अनुसार वार्ड क्रमांक 8 में रहने वाले घनश्याम राठौर की गाय लंपी वायरस की चपेट में आ गई है। गाय के पूरे शरीर में गुब्बारे की तरह चट्ठे हो गए हैं और गाय को तेज बुखार के साथ खड़े होने व चलने फिरने और खाने में परेशानी हो रही है।

लंपी वायरस ने पूरे देश मे खौफ पैदा कर दिया है। इसका सबसे ज्यादा असर राजस्थान में देखने को मिल रहा है। हरदा जिले में खिरकिया का मामला सामने आने पर गौपालकों व किसानों की चिंता बढ़ गयी है। दुधारू पशुओं को लंपी वायरस होने से दूध की कमी होगी। अगर समय रहते इलाज नही मिला तो जानवर की मौत भी हो सकती है।

क्या कहते हैं डॉक्टर

डॉक्टर का कहना है कि अगर किसी भी जानवर को शुरुआती लक्षणों में ही लंपी वायरस की शिकायत है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर उसका इलाज करवाए। दो दिन में जानवर ठीक हो सकता है। झाड़ फूंक या देशी उपचार में जानवर की हालत ओर गंभीर हो सकती है जिससे जानवर की जान भी जा सकती है। अगर दुधारू गाय को वायरस के लक्षण हैं तो उसके दूध को अच्छी तरह उबालकर ही काम में लें। वैसे दूध में वायरस के कोई दुष्प्रभाव नही होते, लेकिन फिर भी दूध को अच्छे से उबालकर ही प्रयोग में लाया जाना चाहिए।

इनका कहना है

लंपी वायरस का इलाज है। पशु को तुरन्त अस्पताल लेकर आएं। गांवो में हो तो डॉक्टर से संपर्क करें ।
डॉ. एस के त्रिपाठी, उपसंचालक पशु चिकित्सा संचालन हरदा

Related Articles

Back to top button