कोलार: सरकारी नालों पर अवैध निर्माण, बारिश में बनती है जलभराव की स्थिति

भोपाल
राजधानी के उपनगर कोलार में इन दिनों नालों पर अवैध तरीके से निर्माण जारी है। खुलेआम नालों पर निर्माण किया जा रहा है, लेकिन जिम्मेदार एजेंसियां कार्रवाई करने से बच रही हैं। जिला प्रशासन और निगम प्रशासन एक-दूसरे पर कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं। कोलार में नालों पर कब्जा करने का सिलसिला सालों से चला रहा है। ऐसे में हमेशा बारिश में जल निकासी नहीं होने से कॉलोनियों और बस्तियों में जलभराव की समस्या पैदा होती है। साथ ही निगम प्रशासन को नालों की सफाई में भी खासी मशक्कत करनी पड़ती है।

पूर्व कांग्रेस नगर अध्यक्ष कोलार अनिल बिट्टू शर्मा ने आरोप लगाए हैं कि अफसरों और भाजपा नेताओं की मिलीभगत से कोलार में लगातार नालों पर कब्जा कर निर्माण किया जा रहा है। इस संबंध में जल्द ही संभागायुक्त और कलेक्टर भोपाल से लिखित शिकायत की जाएगी।

केस 1
वार्ड 82 स्थित मंदाकिनी-जेके अस्पताल रोड पर सागर प्रीमियम टॉवर के पहले मेन रोड पर नाले पर बिल्डिंग खड़ी की जा रही है। अतिक्रमणकारी ने बकायदा सीपीए द्वारा लगाए गए लोहे की रेलिंग को तोड़कर निर्माण कार्य जारी कर रखा है। कुछ दिन पहले सीएम के आने पर इस स्थान पर पर्दा लगाकर निर्माण सामग्री को छिपाई गई। शिकायत के बाद भी अफसर शांत बैठे हैं।

केस 2
वार्ड 83 स्थित राजहर्ष एम सेक्टर, मुकुल नगर हनुमान मंदिर के सामने एक व्यक्ति द्वारा नाले पर खुलेआम निर्माण किया जा रहा है। जिला प्रशासन, नगर निगम, स्थानीय विधायक, थाना प्रभारी सहित हर जगह शिकायत की गई, लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हुआ। कब्जा करने के उद्देश्य से हरे-भरे पेड़ों को काटा जा रहा है।

सीएम हेल्पलाइन से भी नहीं मिली हेल्प
शहर में नालों पर खुलेआम अतिक्रमण किया जा रहा है। लोग बिना अनुमति नालों पर निर्माण कर रहे हैं, लेकिन अफसर इस मामले में कोई कदम नहीं उठा रहे। हालात ये हैं कि शिकायतकर्ता ने कोलार में नालों पर हो रहे निर्माण के खिलाफ सीएम हेल्पलाइन में करीब एक महीने पहले शिकायत की थी, उस पर भी कोई एक्शन नहीं लिया गया। सूत्रों के अनुसार अफसरों की मिलीभगत से कब्जा करने वालों के हौंसले बढ़ रहे हैं।

Related Articles

Back to top button