बारामूला में आतंकियों से मुठभेड़ में सतना का लाल शहीद

सतना
 देश की सेवा में एक बार फिर विंध्य के लाल ने अपने प्राण न्योक्षावर कर दिए है। शुक्रवार की अल सुबह 4 बजे आंतकी हमले में जवाबी कार्रवाई के दौरान सतना जिले के मैहर विधानसभा के ग्राम नौगवां पोस्‍ट अमदरा निवासी सीआइएसएफ के एएसआई शंकर प्रसाद पटेल शहीद हो गए। दरअसल सीआइएसएफ के दस्ते पर आंतकियों ने हमला कर दिया था। हमले में शंकर प्रसाद पटेल आंतकियों से सामना करते हुए देश के लिए अपने प्राण न्योक्षावर कर दिए।

  शोक में डूबा विंध्य विंध्य के लाल की जम्मू में शहीद होने की जानकारी लगते ही जहां बलिदानी के गांव में मातम फैल गया और उनके घर लोग पहुचने लगे है वही अपने इस जांबाज जवान की शहादत से पूरा विंध्य शोक में डूब गया है। शहीद जवान शंकर प्रसाद पटेल के शहादत की जानकारी लगते ही सतना सांसद गणेश सिंह ने भी शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि जवान की बहादुरी को सलाम करते हुए लिखा है कि पूरा क्षेत्र नतमस्तक है।

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के चड्ढा कैंप के पास CISF जवानों से भरी बस पर आतंकियों ने हमला किया है। जवाबी कार्रवाई ने आतंकियों को भागने पर मजबूर किया। सुरक्षाबलों की तरफ से की गई कार्रवाई में अब तक दो आंतकी मारे गए हैं और 2 हथियार बरामद हुए हैं। सुजवां आर्मी कैंप सेना का मुख्य स्टेशन हैं, वहां से चढ्ढा कैंप मात्र एक किमी की दूरी पर था। गौरतलब है पीएम मोदी के जम्मू दौरे से पहले सुरक्षाबल सर्च ऑपरेशन कर रहे थे। इस दौरान आतंकियों ने बस पर ग्रेनेड से हमला किया।

हमले में सतना जिले के रहने वाले सीआईएसएफ के एएसआई शंकर पटेल शहीद हो गए जबकि कई जवान अभी घायल हैं, जिनका सेना अस्पताल में इलाज चल रहा है। परिवार के लोगों ने बताया कि उन्होंने सात दिन पहले ही ड्यूटी ज्वाइन की थी। शहीद शंकर प्रसाद पटेल के दो बेटे हैं। एक एनएचआई में गार्ड है, दूसरा नागपुर में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। जम्मू-कश्मीर से शव को प्रयागराज लाया जाएगा। इसके बाद गांव में अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाएगा।

पीएम मोदी के दौरे से पहले आतंकी हमला
अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार 24 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर के दौरे पर रहेंगे। जिसे लेकर वहां खुफिया एजेंसियां और सेना हाई अलर्ट पर हैं। कार्यक्रम में पीएम के साथ उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, ग्रामीण विकास पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह भी होंगे। पीएम के दौरे के पहले ही यह मुठभेड़ हो गई।

सुबह 4 बजे आतंकियों से हुई मुठभेड़
जम्मू के ADGP मुकेश सिंह ने कहा, जम्मू में सुंजवां कैंप के पास शुक्रवार सुबह करीब 4.15 बजे सुरक्षा बल आतंकियों की सूचना मिलने पर पहुंचे थे। यहां आतंकियों ने फायरिंग की। मुठभेड़ शुरू हुई। इसमें 2 आतंकवादी ढेर कर दिए गए और अफसर शहीद हुए हैं। सुंजवां में एनकाउंटर खत्म हो गया है। आतंकवादियों के शव बरामद कर लिए गए हैं। हमला उस समय हुआ जब जवान बस से ड्यूटी पर जा रहे थे। जवाबी फायरिंग के बाद आतंकी भाग गए। सर्च ऑपरेशन जारी है।

 

Related Articles

Back to top button