महाकाल मंदिर समिति इस वर्ष कावड़ यात्रियों को जलाभिषेक की अनुमति देने पर कर रहा विचार

उज्जैन
महाकाल मंदिर में कोरोना काल के दो साल बाद फिर से बोल बम का नाद सुनाई देगा। मंदिर समिति श्रावण मास में कांवड़ यात्रियों को भगवान महाकाल के जलाभिषेक की अनुमति देने पर विचार कर रही है। कांवड़ियों को पूर्व निर्धारित व्यवस्था के अनुसार शनिवार, रविवार व सोमवार को छोड़कर प्रवेश दिया जा सकता है।

श्रावण मास में भगवान महाकाल का जलाभिषेक करने के लिए कांवड़ यात्री नर्मदा व गंगा नदी का जल लेकर उज्जैन आते हैं। मंदिर समिति यात्रियों को मंगलवार से शुक्रवार तक भगवान महाकाल के जलाभिषेक की अनुमति देती है। शनिवार, रविवार व सोमवार को अत्यधिक भीड़ वाले दिनों में कांवड़ यात्राओं को अनुमति नहीं रहती थी। दो साल से मंदिर समिति ने भक्तों द्वारा भगवान महाकाल के जलाभिषेक पर रोक लगा रखी थी। कांवड़ यात्रियों को भी जल लेकर मंदिर नहीं आने की हिदायत दी गई थी।

अब तक यह थी व्यवस्था

मंदिर समिति द्वारा कांवड़ यात्रा दल में शामिल अधिकतम पांच लोगों को गर्भगृह में जाकर जल चढ़ाने की निश्शुल्क अनुमति दी जाती थी। शेष यात्री सभा मंडप स्थित जल द्वार पर लगे पात्र से भगवान को जल अर्पित करते हुए गणेश मंडपम से भगवान के दर्शन कर मंदिर के बाहर निकल जाते थे।

Related Articles

Back to top button