15 जून से मानसून की दस्तक ,प्रदेश में चक्रवातीय परिसंचरण सक्रिय

भोपाल
दो जून को नौतपे की समाप्ति हो चुकी है और इसी के साथ प्री मानसून गतिविधियों के चलते मौसम में बदलाव देखने को मिल रहा है।एमपी मौसम विभाग (MP Weather Update) के अनुसार, वर्तमान में पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान-पाकिस्तान के ऊपर ट्रफ के रूप और दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश में चक्रवातीय परिसंचरण सक्रिय है। यह पूर्व-पश्चिम ट्रफ दक्षिणी बिहार और झारखंड से लेकर पूर्वी बांग्लादेश तक विस्तृत है। एक अन्य चक्रवातीय परिसंचरण दक्षिणी बांग्लादेश की ओर सक्रिय है। इस चक्रवातीय घेरे की वजह से पाकिस्तान व राजस्थान की गर्म हवा तेज गति से आ रही है। यह सीधे ग्वालियर चंबल संभाग में सक्रिय हो रही हैं।

 मौसम विभाग (MP Weather alert ) के अनुसार, खंडवा में 9 जून तक उत्तरी व पश्चिमी हवा का असर दिखेगा।6-7 जून को महाराष्ट्र के आसपास एक सिस्टम सक्रिय हो सकता है । 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा तेज हवा के साथ बूंदाबांदी की संभावना है। खंडवा व आसपास दस जून के आसपास प्री-मानसूनी की हलचल प्रारंभ होगी और 15 जून तक प्रदेश में मानसून की दस्तक हो सकती है। वही इंदौर में 10 जून के बाद मानसून के पहुंचने के आसार है

 मौसम विभाग (MP Weather Forecast) का पूर्वानुमान है कि इस वर्ष 15 जून के आसपास मानसून की दस्तक हो सकती है। मानसून की पहली बारिश जबलपुर, सागर और आलीराजपुर से शुरू हो सकती है। ग्वालियर संभाग में 1 जून से 30 सितंबर के बीच मानसून का सीजन रहने के साथ सामान्य बारिश होने के आसार हैं। 24 से 26 जून के बीच मानसून ग्वालियर-चंबल संभाग में पहुंचने की संभावना हैं। प्रदेश के चंबल, शहडोल और नर्मदापुरम संभाग में 103%, भोपाल, सागर, जबलपुर, रीवा, ग्वालियर संभाग में जुलाई-अगस्त में 120% बारिश होने का अनुमान है।

Related Articles

Back to top button