MP Cheetah project : नामीबिया से लाए जा रहे चीतों की उम्र दो से 5 साल, देखें तस्वीर

एजेंसी चीता कंजर्वेशन फंड ने जारी की तस्वीरें, कूनो पहुंचने वाले चीतों में 3 नर, 5 मादा

भोपाल
MP Cheetah project : नामीबिया से आने वाले जिन चीतों को लेकर देश बेसब्री से इंतजार कर रहा है। उन सभी चीतों की फि लहाल तस्वीरें सामने आ गई हैं। इनमें तीन नर और पांच मादा चीते शामिल हैं। इन सभी की उम्र दो से साढ़े पांच साल के बीच की है। खास बात यह है कि यह दोनों ही सगे भाई हैं और नामीबिया के एक निजी रिजर्व में हैं।

भारत में चीतों (MP Kuno National Park) को फिर से बसाने के प्रोजेक्ट से जुड़ी एजेंसियों में से प्रमुख एजेंसी चीता कंजर्वेशन फंड ने ब्योरा जारी करते हुए बताया कि नामीबिया से आने वाले आठ चीतों में तीन नर चीते हैं। इनमें दो की उम्र साढ़े पांच साल की है, जबकि एक साढ़े चार साल का है। वहीं जो पांच मादा चीता आ रहे हैं, उनमें से दो मादा चीता की उम्र पांच वर्ष है, जबकि एक दो साल, एक ढाई साल व एक तीन से चार वर्ष के बीच है।

बताया जाता है कि चीता की औसत आयु 12 साल होती है। नामीबिया से आने वाले चीतों में एक मादा चीता वहां एक प्रतिष्ठित कारोबारी का भी है, जिसे कुछ साल पहले उन्होंने जंगल में छोड़ दिया था। इस बीच संस्था ने आने वाले सभी चीतों से जुड़ी विस्तृत जानकारी भी जारी की है। यानी वह किस रिजर्व से हैं। कितने समय से वहां रह रहे हैं। उनके परिवार का ब्योरा आदि शामिल है।

चीतों को लेकर पहली बार उड़ान भरेगा विमान

इसके साथ ही चीतों को लाए जाने वाले जम्बो जेट में चीतों के लिए खासतौर पर फ्लाइट को विशेष फ्लेग नंबर 118 वहीं चीता प्रोजेक्ट से जुड़ी विमानन क्षेत्र से जुड़ी यह कंपनी भी इसे लेकर काफी उत्साहित है। कंपनी से इसे लेकर अपनी इस उड़ान को एक विशेष फ्लेग नंबर भी दिया है, जिनका नंबर 118 है। उड़ान के बाद इस फ्लैग को कंपनी अपने संग्रहालय में सहेज कर रखेगी। कंपनी की मानें तो दुनिया में चीतों को शिङ्क्षफ्टग के लिए वह पहली बार कोई उड़ान संचालित कर रही है। ऐसे में यह उनके लिए ऐतिहासिक पल है। आठ चीतों का पहला दल 17 सितंबर को भारत आ जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर इन्हें मध्य प्रदेश के कूनो पालपुर अभयारण्य में रखा जाएगा।

कराहल बना नो फ्लाइंग जोन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे तक श्योपुर के कराहल को नो फ्लाइंग जोन में बदल दिया गया है। यहां बिना एसपीजी की अनुमति के कोई उड़ान नहीं भरी जा सकेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को श्योपुर के कराहल आएंगे। यहां वह कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से आए चीतों को क्वारंटाइन बाड़े में छोड़ेंगे। साथ ही कराहल में आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूह से जुड़कर आत्म निर्भर हुई दीदियों के सम्मेलन को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर पिछले कई दिनों से तैयारी चल रही है। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर विशेष रूप से इंतजाम किए गए हैं। कुछ दिनों पहले ही एसपीजी की टीम ने तमाम तैयारी का जायजा लिया। प्रधानमंत्री का सुरक्षा घेरा तीन स्तरीय होगा। जिसमें एसपीजी और राज्य सरकार दोनों की भूमिका होगी।

5 हजार पुलिस कर्मी होंगे तैनात

प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम में सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार ने चाक-चौबंद व्यवस्था की है। उनकी सुरक्षा में राज्य के 3 एडीजी और 4 आइजी रैंक के अधिकारी सहित 47 आइपीएस अधिकारी तैनात रहेंगे। जबकि एएसपी, डीएसपी से लेकर आरक्षक तक करीब 5 हजार जवानों को सुरक्षा में तैनात किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button