MP News : आंधी में गिरीं महाकाल लोक में सप्तऋषि की 6 मूर्तियां, ₹856 करोड़ का है प्रोजेक्ट

MP News : तूफानी हवाओं के चलते महाकाल लोक में बनी सप्तऋषियों की मूर्तियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. इनमें से कई मूर्तियां जमीन पर गिर गईं तो कई मूर्तियों के हाथ और सिर टूट गए.

Latest MP News : उज्जवल प्रदेश, उज्जैन. उज्जैन में रविवार शाम तेज आंधी के चलते महाकाल लोक कॉरिडोर में स्थापित कई मूर्तियां गिर कर टूट गईं. पिछले साल अक्टूबर में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाकाल लोक कॉरिडोर परियोजना के पहले चरण का उद्घाटन किया था. इस परियोजना की कुल लागत 856 करोड़ रुपये है जिसमें पहले चरण 351 करोड़ रुपये में पूरा हुआ.

रविवार शाम अचानक तूफानी हवाओं के चलते महाकाल लोक में बनी सप्तऋषियों की मूर्तियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. इनमें से कई मूर्तियां जमीन पर गिर गईं तो कई मूर्तियों के हाथ और सिर टूट गए. रविवार होने के चलते बड़ी संख्या में श्रद्धालु महाकाल लोक पहुंचे हुए थे. हालांकि, राहत की बात यह है कि इतने नुकसान के बाद भी किसी श्रद्धालु को चोट नहीं आई.

दरअसल, 10 से 25 फीट ऊंची ये मूर्तियां लाल पत्थर और फाइबर रेनफोर्स प्लास्टिक से बनी हैं. इन पर गुजरात की एमपी बाबरिया फर्म से जुड़े गुजरात, ओडिशा और राजस्थान के कलाकारों ने कारीगरी की है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 अक्टूबर 2022 को उज्जैन में महाकालेश्वर मंदिर के नए परिसर ‘महाकाल लोक’ का लोकार्पण किया था. जिसके बाद देश विदेश से लगातार श्रद्धालु महाकाल लोक को निहारने पहुंचते हैं. लेकिन महाकाल लोक में हुए गुणवत्ताहीन निर्माण की पोल जरूर खुल गई. घटना की जानकारी मिलने के बाद जिला कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम मौके पर पहुंचे और मूर्तियों को पुनः स्थापित करने के निर्देश दिए.

कलेक्टर का बयान

उज्जैन कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि महाकाल लोक कॉरिडोर में कुल 160 मूर्तियां स्थापित हैं. उनमें से ‘सप्तऋषियों’ की छह मूर्तियां, जो लगभग 10 फीट ऊंची थीं, रविवार शाम 4 बजे के आसपास तेज हवाओं के कारण गिर गईं और क्षतिग्रस्त हो गईं. उन्होंने कहा कि ये क्षतिग्रस्त मूर्तियां महाकालेश्वर मंदिर के अंदर नहीं, बल्कि इसके चारों ओर विकसित महाकाल लोक कॉरिडोर में स्थित थीं. कॉरिडोर की देखरेख का जिम्मा पांच साल तक इसको बनाने वाली कंपनी के पास ही है, इसलिए मूर्तियों को फिर से स्थापित किया जाएगा. उन्होंने बताया कि गुजरात की कंपनियां मूर्तियां बनाने और कॉरिडोर बनाने के काम में लगी हैं.

कांग्रेस ने BJP को घेरा

अब इस घटना ने कांग्रेस को बीजेपी सरकार पर निशाना साधने का मौका दे दिया है. राज्य के मुख्य विपक्षी दल ने परियोजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है और निर्माण की गुणवत्ता की जांच की मांग उठाई है.

भ्रम फैला रही कांग्रेस: BJP

वहीं, इस मामले में राजनीति करने पर BJP ने कांग्रेस पर पलटवर किया है. पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी आशीष अग्रवाल ने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने मालवा क्षेत्र में तेज आंधी-तूफान का संज्ञान लिया है. फोन पर उज्जैन कलेक्टर और उज्जैन संभाग कमिश्नर से चर्चा कर निर्देशित किया है.

मुख्यमंत्री को अधिकारियों ने बताया कि आज मालवा क्षेत्र के उज्जैन एवं आसपास के इलाक़ों में तेज तूफ़ान से प्राकृतिक आपदा जैसी स्थिति उत्पन्न हुई जिसमें दुर्भाग्य से 2 लोगों की (1 उज्जैन और 1 नागदा में) मृत्यु हो गई और 3 लोग घायल हुए. लगभग 50 वृक्ष और बहुत से बिजली के खंभे उखड़े हैं.

श्री महाकाल लोक में 155 प्रतिमाएं हैं जिनमें से 6 खंडित हुई हैं, ये सभी डिफेक्ट लायबिलिटी पीरियड के तहत कांट्रेक्टर द्वारा नयी स्थापित की जाएंगी.

ऐसी प्राकृतिक आपदा की स्थिति में जहां तेज आंधी-तूफान में तीन लोगों की मृत्यु हुई हो, लोग घायल हुए हो वहां कांग्रेस मध्यप्रदेश के लोगों के साथ खड़े होने की बजाए राजनीति कर रही है और बिना किसी तथ्य को सामने रखे सिर्फ़ भ्रम फैलाने का काम कर रही है.

कॉरिडोर में 160 मूर्तियां

बता दें कि महाकाल लोक कॉरिडोर 900 मीटर लंबा है. इस कॉरिडोर में 160 मूर्तियां हैं, जो भगवान शिव और ऋषियों के अलग-अलग रूपों को दिखाती हैं. यहां दो भव्य प्रवेश द्वार- नंदी द्वार और पिनाकी द्वार बने हैं. इसमें त्रिशूल के डिजाइन के 108 स्तंभ हैं. साथ ही शिव पुराण की कहानियों को दर्शाने वाले 50 भित्ति चित्र बनाए गए हैं.

राजस्थान के बंसी पहाड़पुर से मंगाए गए खास बलुआ पत्थर कोरिडोर में लगाए हैं. राजस्थान, गुजरात और ओडिशा के कलाकारों ने इस कॉरिडोर को तैयार किया है. यहां पर कालिदास के ‘अभिज्ञान शकुंतलम’ में उल्लेखित बागवानी प्रजातियों को भी गलियारे में लगाया गया है. इसमें रुद्राक्ष, बकुल, कदम, बेलपत्र और सप्तपर्णि जैसी धार्मिक महत्व वाली 40-45 प्रजातियां हैं.

Show More

Related Articles

Back to top button