महाकाल की भस्म आरती में नई चलायमान व्यवस्था सोमवार से लागू

उज्जैन
महाकालेश्वर के भक्तों के लिए अच्छी खबर है। ऐसे भक्त जिन्हें भस्म आरती के दर्शनों की अनुमति नहीं मिल पाती थी, अब उन्हें निराश नहीं होना पड़ेगा। वे भी बाबा महाकाल की भस्म आरती के दर्शन कर सकेंगे। इसी सोमवार से प्रशासन नई चलायमान व्यवस्था लागू कर रहा है। यानी वे लाइन में चलते हुए दर्शन कर सकेंगे। इससे पहले यह सिस्टम सिंहस्थ 2016 में लागू किया जा चुका है।

इस खबर पर आप अपनी राय यहां दे सकते हैं।

श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति की बैठक गुरुवार को हुई। मंदिर समिति के अध्यक्ष व कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि अनुमति नहीं मिलने से कई भक्त भस्म आरती के दर्शनों से वंचित रह जाते हैं। नई व्यवस्था से ऐसा नहीं होगा। बिना अनुमति वाले श्रद्धालुओं के लिए समिति द्वारा बैरिकेडिंग की 3 लाइन से चलायमान व्यवस्था लागू की जाएगी। पहले की ऑनलाइन और ऑफलाइन अनुमति की व्यवस्था भी लागू रहेगी। अंतर सिर्फ इतना है कि अनुमति लेने वाले परिसर में बैठ सकेंगे।

7 दिन नए सिस्टम का ट्रॉयल

भस्म आरती के दौरान दर्शन कराते हुए उन्हें बाहर निकाला जाएगा। ऐसे श्रद्धालुओं को अनुमति लेने अथवा शुल्क देने की आवश्यकता भी नहीं होगी। इसके अलावा पहले से अनुमति लेने वाले श्रद्धालुओं के लिए बैठक व्यवस्था रहेगी। प्रारंभिक तौर पर इसी सोमवार से 7 दिन का ट्रायल किया जा रहा है। सब कुछ ठीक रहा, तो आगे स्थाई रूप से चलायमान दर्शन व्यवस्था जारी रखेंगे।

Related Articles

Back to top button