37 इंजीनियरिंग कॉलेज में एक भी प्रवेश नही, कल और होंगे पंजीयन, 29 तक च्वॉइस फिलिंग

भोपाल
तकनीकी शिक्षा विभाग ने प्रथम चरण की काउंसलिंग पर खत्मा लगा दिया है। इसमें विभाग को करीब 17 हजार विद्यार्थियों के प्रवेश मिले हैं। सूबे 142 कॉलेजों में तीन दर्जन कॉलेजों में एक भी विद्यार्थी ने प्रवेश नहीं लिया हैं। इसमें भोपाल के 16 कॉलेज शामिल हैं। उन्हें अब दूसरे राउंड से आस लगाना होगी, जिसके पंजीयन पर कल विराम लग जाएगा।

प्रदेश के 37 इंजीनियरिंग कॉलेजों की दस हजार सीटों पर एक भी विद्यार्थी ने प्रवेश नहीं लिया है। जबकि विद्यार्थियों को उनकी च्वाइस के मुताबिक उनकी पहली पसंद की कम्प्यूटर साइंस की सीट तक आवंटित कर दी गई थी, लेकिन कॉलेज की बेहतर साख नहीं होने के कारण विद्यार्थियों ने उन्हें छोडना ही उचित समझा है। अब उक्त कॉलेजों को दूसरे राउंड की काउंसलिंग में अपने जौहर दिखाने होंगे, ताकि उनकी सूनी पड़ी सीटों पर कुछ प्रवेश हो सकें और वे अपनी साख बचा सकें।

इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश लेने के लिये दूसरे राउंड के पंजीयन कल तक और होंगे। विद्यार्थी 27 सितंबर तक पंजीयन में सुधार जरूर कर सकते हैं। उनकी च्वॉइस फिलिंग 29 सितंबर तक स्वीकृत की जाएगी। तीस सितंबर को मेरिट जारी करने के बाद विभाग 5 अक्टूबर को अलॉटमेंट जारी करेगा। विद्यार्थी 11 अक्टूबर तक प्रवेश ले पाएंगे।

कम विद्यार्थी हुये पास फिर भी बढे प्रवेश
एमपी बोर्ड का 12 का रिजल्ट गत वर्ष के मुकाबले काफी अच्छा नहीं रहा है। वर्तमान सत्र में एक लाख 87 हजार विद्यार्थी साइंस गु्रप में पास हुये हैं। जबकि गत वर्ष दो लाख पार हो चुका था। इसके बाद भी वर्तमान सत्र में विद्यार्थियों की संख्या प्रवेश में बढ रही है। दूसरे राउंड के बाद सीएलसी में प्रवेश बढने के आसार दिखाई दे रहे हैं।

भोपाल के जीरो प्रवेश कॉलेज
आॅल सेंट कॉलेज, बगुलामुखी कॉलेज, भोपाल इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट कॉलेज, भोपाल इंजीनियरिंग एंड साइंस कॉलेज, आईसकॉम कॉलेज, कोपल कॉलेज, लक्ष्मीपति कॉलेज, मिलेनियम कॉलेज, मित्तल कॉलेज, राधारमन कॉलेज, राजीव गांधी कॉलेज, श्रीराम कॉलेज, सुरभी कॉलेज, स्वामी विवेकानंद कॉलेज और व्हीएनएस कॉलेज।

प्रदेश के जीरो प्रवेश कॉलेज
आदित्य कॉलेज सतना, अस्ट्राल कॉलेज इंदौर, बेथेस्दा कॉलेज ग्वालियर, गिरधर शिक्षा एवं समाज सुधार कॉलेज मंडीदीप, ग्लोबल कॉलेज बडवानी, गुरूरामदास खालसा कालेज जबलपुर, ग्वालियर इंस्टीट्यूट आफ इंफॉर्मेशन टेक्नालॉजी ग्वालियर, इंस्टीट्यूट आॅफ पीपुल्स साइंस एंड टेक्नालॉजी चित्रकूट, मथुरा देवी कालेज इंदौर, नागाजी कॉलेज ग्वालियर, रीवा इंजीनियरिंग कॉलेज रीवा, संघवी कालेज इंदौर, सरस्वती इंस्टीट्यूट जबलपुर, सतपुड़ा इंजीनियरिंग कालेज बालाघाट, एसजीबीएम कॉलेज जबलपुर, शिवकुमार सिंह कॉलेज इंदौर, श्रीजी इंस्टीटयूट जबलपुर, रामा कृष्णना कालेज सतना, श्री रावतपुर सरकार कॉलेज दतिया, श्री परशुराम कॉलेज खंडवा, विक्रांत इंस्टीट्यूट इंदौर और  स्य्नेर्ग्स कॉलेज देवास।

Related Articles

Back to top button