शहर की सरकार बनाने घर से निकले लोग, 52.56% लोगों ने किया अपने मताधिकार का उपयोग

सिंगरौली
सिंगरौली नगर निगम के महापौर एवं 45 वार्डों के पार्षद पद हेतु कुल 52.56 प्रतिशत मतदान के साथ चुनाव संपन्न हुआ। गौरतलब है कि सिंगरौली नगर निगम में इस बार महापौर पद के लिए 12 प्रत्याशी मैदान में हैं। वही 45 वार्ड के पार्षद पद हेतु कुल 258 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे थे। इसके लिए निगम क्षेत्र में 240 मतदान केंद्र बनाए गए थे। मोरवा क्षेत्र के 11 वार्डों के लिए 54 मतदान केंद्र बनाए गए थे। वार्ड क्रमांक 9 के पोलिंग बूथ क्रमांक 42 में सर्वप्रथम सिंगरौली विधायक रामलल्लू वैश्य ने अपनी धर्मपत्नी के साथ मतदान किया। यहां सुबह से ही लोगों की लंबी कतारें दिखी। वहीं वार्ड क्रमांक 8 के पोलिंग क्रमांक 34 में भाजपा जिलाअध्यक्ष वीरेंद्र गोयल ने अपने परिवार जनों के साथ पहुंचकर मतदान किया।

पहली बार वोट डाल रहे मतदाताओं में दिखा खासा उत्साह
जिले में नगर पालिक निगम सिंगरौली के मतदान को लेकर आम मतदाता तो उत्साहित दिखे। सबसे ज्यादा उत्साह उनमें दिखा जिन्हें पहली बार मतदान करने का मौका मिल रहा था। लगभग सभी मतदान केन्द्रो पर  पहली बार मतदान करने वाले युवा दिखे। फस्ट टाईम वोटर अपने परिजनो एवं दोस्तो के साथ मतदान करने पहुचे।

कलेक्टर राजीव रंजन मीना एवं पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र सिंह ने किया किया मतदान
सुबह करीब 8.30 बजे कलेक्टर राजीव रंजन मीना अपनी धर्मपत्नी श्रीमती भावना मीना एवं पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र सिंह एवं उनकी धर्मपन्ती श्रीमती राशि सिह ने भी शासकीय प्राथमिक पाठशाला विन्ध्यनगर में पहुंचकर अपना मतदान किया और खुशी जाहिर की। इस अवसर कलेक्टर ने कहा कि पूरा प्रशासनिक अमला बेहतर ढंग से चुनाव संपन्न कराने के लिए लगा हुआ है। उन्होने कहा कि मतदाता पूरी निर्भीकता के साथ अपने मताधिकार का उपयोग करें। उन्होंने सभी मतदाताओं से अपील करते हुए कहा कि सभी मतदाता निर्भीक होकर मतदान में हिस्सा ले। मतदान सभी मतदाताओं का अधिकार एवं जिम्मेदारी है। लोकतंत्र के इस उत्सव में अपनी भागीदारी बढ़ाये सभी बूथों पर ज्यादा से ज्यादा मतदान हो। वही पुलिस अधीक्षक ने आम नागरिकों में यह संदेश दिया कि सिंगरौली पुलिस पूरी मुस्तैदी के साथ उनकी सुरक्षा के लिए शांतिपूर्ण, निष्पक्ष एवं निर्विघ्नं चुनाव प्रक्रिया संपन्न करवाने के लिए अपनी ड्यूटी कर रही है। अतः आप सभी निर्भिक होकर पूर्ण उत्साह के साथ अपने मताधिकार का प्रयोग जरूर करें और मतदान करने अवश्य जाएं।

सुबह से ही दिखी लंबी कतारें
"पहले मतदान फिर जलपान" के नारे के साथ नगर के लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए सुबह ही पोलिंग बूथ पहुंच गए। कई पोलिंग बूथ में लोगों की लंबी कतारें सुबह से ही रही। वार्ड क्रमांक 9 के पोलिंग क्रमांक 42 एवं 44 में लोगों की लंबी कतारें देखी गई।

92 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने किया मतदान
झिनगुदह स्थित वार्ड क्रमांक 1 के मतदान क्रमांक 4 में 92 वर्षीय रीझन देवी ने पहुंच कर मतदान किया।
लाठी के सहारे चलकर बुजुर्ग महिला ने मतदान केंद्र पहुंचकर लोगों के बीच यह संदेश दिया कि आपका वोट कितना जरूरी है। इसी तरह शासकीय कन्या हाई स्कूल के मतदान केंद्र क्रमांक 34 में 75 वर्षीय महेश्वरी यादव ने अपने मताधिकार का उपयोग किया।

वोटर स्लिप नहीं मिलने से परेशान दिखे लोग
वार्ड के कई मतदाताओं को समय पर वोटर स्लिप नहीं मुहैया कराई जा सकी। जिस कारण लोग वोटर लिस्ट में अपना नाम ढूंढते रहे। हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदाताओं के लिए कई वैकल्पिक व्यवस्थाएं कर रखी थी परंतु जानकारी के अभाव में मतदान केंद्रों में बैठे बीएलओ द्वारा उन्हें वोटर स्लिप के लिए लौटाते देखा गया। जिस कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। कई पोलिंग में अमूमन ऐसी ही समस्या देखने को मिली।

कईयों के नाम वोटर लिस्ट से मिले नदारद, लचर व्यवस्था को देखकर लोगों का फूटा गुस्सा
पूर्व में नगर निगम के वार्डों का परिसीमन और फिर उसे निरस्त करने की प्रक्रिया के कारण कई लोगों के नाम वोटर लिस्ट से या तो नदारद रहा या उनकी वार्ड संख्या ही बदल दी गई। आलम यह रहा कि वर्षों से वार्ड में वोट डाल रहे लोग जब अपना मतदान करने पहुंचे तो बहुत ढूंढने पर उन्हें जानकारी मिली कि उनकी वार्ड संख्या ही बदल गई है। इसे लेकर लोगों के बीच खासा आक्रोश देखा गया।

प्रशासन की लचर व्यवस्था से घटा वोट प्रतिशत
45 वार्डों में मतदान के लिए जिला प्रशासन ने कुल 240 मतदान केंद्र बनाए थे परंतु लोगों को वोटर स्लिप देने का जिम्मा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और निगम के अधिकारियों को सौंपा गया था। इन बीएलओ द्वारा नागरिकों को समय पर वोटर स्लिप नहीं मुहैया कराई गई। जिस कारण लोग परेशान दिखे। क्षेत्र के कई प्रबुद्ध जनों ने इस बात की शिकायत उच्च अधिकारियों को भी की। लोगों का मानना था कि इस बार 70% तक मतदान होगा परंतु प्रशासन की लचर व्यवस्था के कारण या प्रतिशत घट गया।

मोरवा के वार्ड क्रमांक 8 एवं 9 में दिखी वर्चस्व की लड़ाई
मोरवा के वार्ड क्रमांक 8 में भाजपा, कांग्रेस, आप के अलावा एक निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में थी। वहीं वार्ड क्रमांक 9 में भाजपा और कांग्रेस की सीधी लड़ाई थी। जहां लोगों की प्रतिष्ठा दांव पर थी। अतः प्रशासन को भी यहां के मतदान केंद्रों में जूझना पड़ा। शासकीय कन्या हाई स्कूल के मतदान केंद्रों में कांग्रेस प्रत्याशी नीलम गुप्ता आप उम्मीदवार पूजा झा एवं निर्दलीय उम्मीदवार सीमा दुबे द्वारा यह आरोप लगाया गया कि सत्ताधारी पार्टी द्वारा फर्जी तरीके से वोटिंग करवाई जा रही है। लगातार फेसबुक लाइव आकर और प्रशासन को सूचना देकर वह अपनी बात रखती रही। जिस कारण वहां तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। आनन-फानन में प्रशासनिक अधिकारी वहां पहुंचे और लोगों को समझाइश देने में जुटे रहे। कमोवेश यही हाल वार्ड क्रमांक 9 का भी दिखा। यहां एक पत्रकार परिवार सहित मतदान करने पहुंचे तो पता चला उनका वोट पहले ही पड़ चुका है। उन्होंने भी अपनी भड़ास सोशल मीडिया के माध्यम से निकाली।

सुरक्षा व्यवस्था में जुटे रहे प्रशासनिक अधिकारी
मोरवा के 54 मतदान केंद्रों में प्रशासनिक अधिकारी सुबह से ही गश्त लगाते दिखे। एसडीएम ऋषि पवार, तहसीलदार दिवाकर सिंह, एसडीओपी राजीव पाठक, मोरवा निरीक्षक मनीष त्रिपाठी, जयावन थाना प्रभारी कपूर त्रिपाठी समेत भारी संख्या में पुलिस बल पूरे समय गस्त पर रहे।

Related Articles

Back to top button