प्रदेश में बड़े पैमाने पर पीएफआई से जुड़े सदस्यों की हो सकती है धरपकड़, ATS एक्टिव

भोपाल

पॉपुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआई) के मध्य प्रदेश में सक्रिय सदस्यों की जानकारी जुटाना शुरू कर दिया गया है। एटीएस की एक टीम इनमें लग गई है। इसके लिए इंदौर और उज्जैन जिले की लोकल पुलिस की भी मदद ली जा रही है। वहीं बाकी के अन्य सदस्यों की भी जानकारी जुटाये जाने के काम में पुलिस लग गई है। इसके बाद माना जा रहा है कि प्रदेश में बड़े पैमाने पर पीएफआई से जुड़े सदस्यों की धरपकड़ हो सकती है।
पीएफआई के प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल करीम बेकरीवाला, महासचिव अब्दुल खालिद, कोषाध्यक्ष मोहम्मद जावेद और सचिव जमील शेख के पास से जो दस्तावेज एनआईए और एटीएस ने बरामद किये हैं, उनमें कई सदस्यों के नाम, पते की जानकारी हैं। इस जानकारी के आधार पर एटीएस इन सभी की डिटेल्स जुटाने में लग गई है। इसमें स्थानीय पुलिस की भी मदद ली जा रही है। पीएफआई के पदाधिकारियों के पास से मिले दस्तावेज से यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि सदस्य इसमें कितना शामिल रहा है।

जुटा रहे ट्रेनिंग को लेकर जानकारी
एटीएस और प्रदेश के कई शहरों की पुलिस इस खोजबीन में लग गई है कि पीएफआई ने अपने सदस्यों को ट्रेनिंग मध्य प्रदेश में तो नहीं दी। हालांकि अब तक यह सामने आया है कि ये संगठन केरल या तमिलनाडु में ही ट्रेनिंग देता रहा है, लेकिन पुलिस को प्रदेश में ट्रेनिंग दिए जाने की आशंका है। इसके चलते वह इनकी ट्रेनिंग को लेकर भी जानकारी जुटा रही है। प्रदेश में पीएफआई के सभी सक्रिय सदस्य संगठन के ट्रेनिंग प्रोग्राम कर चुके हैं। ट्रेनिंग में इनको क्या-क्या बताया गया, क्या प्रशिक्षण दिया गया। इसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है।

आरोपियों से चल रही पूछताछ
इधर  देश विरोधी ताकतों से जुड़े पॉपुलर फ्रंट आॅफ इंडिया (पीएफआई) के इंदौर और उज्जैन से पकड़ाये चारों आरोपियों प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल करीब बेकरीवाला, अब्दुल जावेद और मुमताज कुरैशी और जमील शेख से एनआईए और एटीएस की टीम संयुक्त रूप से पूछताछ कर रही है। ये चारों आरोपी 30 सितंबर तक की रिमांड पर हैं। इनसे पूछताछ  में कई अहम खुलासे हो सकते हैं। वहीं अन्य राज्यों में पकड़ाये पीएफआई के पदाधिकारियों से पूछताछ अलग-अलग राज्यों में एनआईए कर रही है। प्रदेश में पकड़ाये चारों आरोपियों से शुक्रवार -शनिवार की देर रात तक पूछताछ होती रही। गौरतलब है कि एनआईए की टीम ने बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात इन चारों को इंदौर और उज्जैन से पकड़ा था। इसके बाद इन्हें शुक्रवार को भोपाल की जिला अदालत में पेश किया गया था। जहां से सभी को सात दिन के रिमांड पर एटीएस को सौंप दिया गया था। इस मामले में इन चारों पर एटीएस थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है।

Related Articles

Back to top button