भंवरताल पार्क स्केटिंग रिंग में प्रशिक्षण के नाम पर लूट

जबलपुर

भंवरताल पार्क स्थित स्केटिंग रिंग में आए दिन विवाद हो रहे हैं। वैसे तो स्केटिंग रिंग को नगर निगम द्वारा बच्चों के लिए नि:शुल्क रखा गया है, वहां कोई भी आकर अभ्यास कर सकता है, लेकिन वहां एक महिला प्रशिक्षक जबरिया कब्जा कर रिंग पर अपना स्वामित्व बताती है और वहां आने वाले अन्य बच्चों को अभ्यास करने से रोकती है। यहां तक कि बच्चे जब नहीं मानते तो डायल 100 को फोन कर पुलिस बुलवा लेती है।

ताजा घटना दो दिन पहले की बताई जाती है, घमापुर निवासी एक महिला अपने 16 वर्षीय बेटे को लेकर स्केटिंग रिंग में अभ्यास करवाने के लिए पहुंची थी। महिला ने बताया कि रिंग में पहले से मौजूद कथित तौर पर फर्जी महिला प्रशिक्षक अनीता जायसवाल ने न तो कभी स्केटिंग खेला है और न ही उसके पास किसी तरह के प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र ही है। वह रोजाना शाम को 5 बजे से 7 बजे तक प्रशिक्षण देने का काम कर रही है। यही नहीं उसके द्वारा प्रत्येक स्केटर्स से रजिस्ट्रेशन के नाम पर दो हजार रुपए एवं ट्रेनिंग देने के नाम पर 1 हजार वसूले जा रहे हैं। एडमिशन लेने वाले बच्चों को महंगे दामों पर स्के टिंग किट बेचने का धंधा भी चलाया जा रहा है।

नगर निगम के सूचना बोर्ड में स्पष्ट लिखा है
स्केटिंग रिंग में अभ्यास करने के लिए पहुंचने वाले किसी के द्वारा लूट का शिकार न हो जाएं इसलिए नगर निगम द्वारा बाकायदा सूचना बोर्ड लगाया है। बोर्ड में स्पष्ट लिखा है कि स्केटिंग रिंग में स्केटिंग का अभ्यास करवाने के लिए नगर निगम द्वारा किसी भी प्रशिक्षक की नियुक्ति नहीं की गई है। यहां तक कि सूचना बोर्ड लगाकर स्पष्ट कर दिया गया है कि स्केटिंग रिंग का उपयोग पूर्णत: नि:शुल्क है, किसी भी प्रकार की अवैध वसूली की शिकायत सीधे उद्यान विभाग में की जा सकती है।

शिकायत पर नहीं होती सुनवाई
पीड़ित अभिभावकों का कहना है नगर निगम उद्यान विभाग अधिकारी के पास स्केटिंग रिंग में प्रशिक्षण देने के नाम पर आए दिन शिकायतें पहुंचती हैं, लेकिन महिला प्रशिक्षक की दबंगई के आगे सब बौने साबित हो रहे हैं, किसी की भी हिम्मत नहीं हो रही है कि स्केटिंग रिंग में प्रशिक्षण देने के नाम पर वसूली करने वालों को प्रवेश देने से रोका जा सके।

 

Related Articles

Back to top button