अवैध खनन, परिवहन और भंडारण करने वाले वालों पर अब चार लाख रुपए तक जुर्माना

भोपाल
प्रदेश में अवैध खनन, परिवहन और भंडारण करने वाले वालों पर सरकार ने शिकंजा कस दिया है। अवैध खनिज परिवहन पर अब चार लाख रुपए तक जुर्माना लगेगा।  राज्य सरकार ने अवैध खनन, परिवहन और भंडारण पर लगाम लगाने के लिए नये नियम तय कर दिए है। अवैध खनिज परिवहन करने वाली ट्रेक्टर ट्राली पर 25 हजार, दो एक्सल छह पहिया वाहन पर पचास हजार, डम्पर पर एक लाख, तीन एक्सल दस पहिया वाहन पर दो लाख और चार से छह एक्सल दस पहिया वाहन से अधिक पर चार लाख रुपए तक पर्यावरण क्षतिपूर्ति शुल्क वसूला जाएगा। राशि जमा करने के लिए पंद्रह दिन का समय मिलेगा।  अधिरोपित कुल दंड और प्रशमन शुल्क एक हजार के भुगतान के बाद ही प्रकरण का प्रशमन किया जाएगा और इसके बाद जब्त खनिज और वाहन मुक्त किया जा सकेगा।

 वाहन को खनिज परिवहन के लिए जो अभिवहन पार पत्र जारी किया जाएगा उसमें  दर्ज मात्रा से अधिक खनिज का परिवहन पाए जाने पर खनिज की अतिरिक्त मात्रा पर खनिज की रायल्टी का पंद्रह गुना अर्थदंउ लगाया जा सकेगा। अर्थदंड और पर्यावरण क्षतिपूर्ति की रकम कुल दंड माना जाएगा। जो जुर्माना लगाया जाएगा उसकी वसूली राजस्व वसूली की तर्ज पर की जाएगी। बकाया राशि जमा नहीं होने पर कुर्की का वारंट जारी कर कुर्की की कार्यवाही की जाएगी। अवैध भंडारण के मामले में कलेक्टर से लेकर तहसीदार जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से लेकर खनिज अधिकारी खनिज निरीक्षक मौके पर पंचनामा तैयार कर अवैध उत्खनन, अवैध परिवहन  या अवैध भडारण का प्रकरण प्रारंभ करवाएागा। अवैध खनन, परिवहन, भंडारण की वीडियोग्राफी कराई जाएगी। इस काम में प्रयुक्त उपकरण, औजार और वाहन जप्त किए जाएंगे। इसके लिए पुलिस की मदद भी ली जा सकेगी।

यदि अवैध उत्खननकर्ता, परिवहन कर्ता, भंडारणकर्ता स्थल पर वाहन-मशीन छोड़कर भाग जाते है तो वहां वाहन , मशीन को सुरक्षित अभिरक्षा में रखने के लिए किए गए खर्च की दुगनी रकम जुर्माने के अतिरिक्त वसूली जाएगी। नियमों का उल्लंघन कर खनन और भंडारण करने पर अवैध उत्खनन या भंडारण के लिए उल्लंघनकर्ता को उत्खनित या भंडारित खनिज पर रायल्टी का पंद्रह गुना दंड लगाकर वसूला जाएगा।

Related Articles

Back to top button