शराब दुकान बंद कराने डंडे-लाठियों के साथ मैदान में उतरी महिलायें

जबलपुर
प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के शराब बंदी अभियान को लेकर अब भले ही उमा भारती महिलाओं को शराब दुकान बंद करवाने हिंसा का इस्तेमाल न करने की सलाह देती नजर आ रही है लेकिन लगता है प्रदेश की महिलायें अब उनकी बात मानने के लिए तैयार नहीं है इसी का ताज़ा उदाहरण सामने आया है जबलपुर के गंगई इलाके से, जहां शराब दुकान बंद करवाने महिलायें खुद सड़क पर उतरी और तो और महिलाओं ने हाथों में डंडे थाम रखे थे।

महिलाओं ने दुकान पर पहुंचते ही वहाँ लगे पोस्टर और बैनर फाड़ डाले और दुकान संचालक को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यहाँ दुकान खोली तो उसकी खेर नहीं, महिलाओं ने इलाके में खुलने वाली नई शराब दुकान का विरोध जताया है, उनका कहना है कि इस दुकान की वजह से महिलाओं और बच्चियों का यहाँ से निकलना मुश्किल हो जाएगा, महिलायें यहाँ से निकल नहीं पाएगी, दुकान पर जमघट न सिर्फ छेड़खानी करेगा बल्कि बच्चियाँ भी यहाँ सुरक्षित नहीं होगी। गंगई बरखेड़ा की इस नई शराब दुकान पर हाथों में डंडे लाठीया लेकर पहुंची महिलाओं ने दुकान संचालक को साफ साफ शब्दों में किसी भी हाल में दूकान न खोलने की चेतावनी दी। फिलहाल महिलाओं के हंगामे की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और उन्होंने महिलाओं को आश्वासन दिया जिसके बाद महिलायें अपने अपने घरों को लौटी।

Related Articles

Back to top button