चिकित्सा मंत्री ने किया एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर का निरीक्षण, दिए ज़रूरी दिशा-निर्देश’

जयपुर। चिकित्सा मंत्री श्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि एसएमएस अस्पताल सहित प्रदेश के सभी चिकित्सा संस्थानों में ऎसा सिस्टम विकसित किया जाए कि चिकित्सको द्वारा मरीजों को दवा की पर्ची ही नहीं दी जाए। अस्पताल में दवा उपलब्ध नहीं होने पर अस्पताल प्रशासन द्वारा मरीजों को दवाएं और अन्य जरूरी वस्तुएं खरीदकर उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए।

श्री मीणा ने शुक्रवार को एमएमएस के ट्रॉमा सेंटर के निरीक्षण के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि अस्पताल की सभी इकाइयों पर यूनिट हैड राउंड द क्लॉक उपस्थित रहें। इसके अलावा नर्सिंग स्टाफ को भी व्यवस्थित करें ताकि मरीज को किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में 969 तरह की दवाएं निशुल्क उपलब्ध है। चिकित्सक मरीजों को दवा की पर्ची ही न लिखें बल्कि उन्हें बैड पर ही उपलब्ध भी कराएं।

चिकित्सा मंत्री ने एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर की व्यवस्थाओं के प्रति नाराजगी जताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने दवाओं की कमी आने पर चार्टर प्लेन भेजकर बाहर से दवा मंगवाई वहीं ट्रॉमा वार्ड में मरीजों को दवा बाहर से लेनी पड़ रही है। उन्होंने लापरवाही बरतने वाले कार्मिकों और चिकित्सकों को तुरंत हटाने एवं सभी व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने के भी निर्देश दिए।

इस अवसर पर चिकित्सकों ने वार्डों पर डीडीसी सेंटर बनाने, सभी यूनिटों में दवाओं का स्टॉक रखने जैसे सुझाव भी दिए। उन्होंने मेडिकल चिकित्सा सचिव को सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने ट्रॉमा वार्ड में भर्ती मरीजों से मिलकर कुशलक्षेम भी पूछी।

निरीक्षण के दौरान मेडिकल शिक्षा प्रमुख शासन सचिव श्री वैभव गालरिया, आरएमएससीएल प्रबंध निदेशक श्रीमती अनुपमा जोरवाल, स्टेट हेल्थ एश्योरेंस सीईओ श्रीमती अरुणा राजोरिया, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी, एसएमएस अस्पताल के अधीक्षक श्री विनय मल्होत्रा सहित चिकित्सक और अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button