पॉलिटेक्निक कॉलेज में देश एवं प्रदेश के उद्योग जगत की मांग के अनुसार नए कोर्सेज शुरू किये जाएं: तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री

जयपुर। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने पॉलिटेक्निक कॉलेजों के प्रधानाचार्यो को कहा कि इन कॉलेजों में समय की मांग के अनुसार नए कोर्सेज शुरू किये जाए जिससे वर्तमान दौर के अनुसार उन्हें रोजगार के नए अवसर मिल सके।

डॉ. गर्ग ने मंगलवार को तकनीकी शिक्षा भवन में पॉलिटेक्निक कॉलेजों की समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि सभी पॉलिटेक्निक कॉलेजों में सीसीटीवी कैमरे से कक्षाओं तथा लैब्स में निगरानी की जाए जिससे संस्थानों में हो रही शिक्षा की लगातार मॉनीटरिंग की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि हर पॉलिटेक्निक कॉलेज की साइट अपडेटेड हो तथा उसमें केंपस प्लेसमेंट की जानकारी, विद्यार्थियों की उपस्थिति सहित विभिन्न जानकारियां उपलब्ध हो।

डॉ. गर्ग ने कहा कि इन महाविद्यालयों में नए कोर्सेज युवाओं के लिए शुरू किया जाए साथ ही जिस कोर्स की मांग ज्यादा है वहां पर वह कोर्स शुरू करने के लिए प्रस्ताव निदेशालय को भिजवाया जाए। उन्होंने बताया कि पॉलिटेक्निक महाविद्यालय में एलुमिनी विद्यार्थियों को बुलाया जाए साथ ही उन विद्यार्थियों का एक डाटा बैंक भी तैयार किया जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि औद्योगिक मांग की जानकारी के लिए इंडस्ट्रीज के कॉर्पोरेट मैनेजर्स के साथ कॉलेज के छात्रों का संवाद किया जाए।

बैठक में शासन सचिव तकनीकी शिक्षा विभाग श्री भवानी सिंह देथा ने कहा कि विभाग द्वारा अपने संसाधनों का अधिकतम प्रयोग किया जाए साथ ही युवाओं में व्यक्तित्व विकास पर भी ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि पॉलिटेक्निक महाविद्यालय में आई आई आई सेल की नियमित मीटिंग हो तथा उसमें लोकल उद्योगपतियों को बुलाया जाए। उन्होंने कहा कि विद्या संबल योजना के तहत अध्यापक शिक्षकों को नियुक्त करें तथा निदेशालय द्वारा इसकी मॉनिटरिंग की जाए। कार्यक्रम में डॉ गर्ग ने महाविद्यालयों में प्रधानाचार्यो के सामने आने वाली प्रैक्टिकल समस्याओं तथा पॉलिटेक्निक कॉलेजों में शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए विस्तृत चर्चा की।

कार्यक्रम में संयुक्त सचिव, तकनीकी शिक्षा श्री मनीष गुप्ता, सभी जिलों के पॉलीटैक्निक महाविद्यालय के प्रधानाचार्य तथा तकनीकी शिक्षा अधिकारी मौजूद थे।

Related Articles

Back to top button