अब यूरोप तक फैलेगी UP के कन्नौज के इत्र की सुगंध, समझिए’अंतरराष्ट्रीय इत्र महोत्सव’ के मायने

लखनऊ
उत्तर प्रदेश सरकार MSME के माध्यम से 'वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' (ODOP) को वैश्विक स्तर पर ले जाने के प्रयास कर रही है। इसके तहत ही कन्नौज के इत्र की मार्केटिंग और ब्रांडिंग की कवायद शुरू कर दी गई है। अधिकारियों का दावा है कि सरकार के प्रयासों से जल्द ही कन्नौज के इत्र की सुगंध यूरोप से लेकर मिडिल ईस्ट तक पहुंच जाएगी। इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में पहला कदम यह है कि प्रदेश में पहली बार "अंतरराष्ट्रीय इत्र महोत्सव" का आयोजन किया जा रहा है।

कन्नौज के व्यापारियों को मिलेगा विदेशी खरीददारों से मिलने का मौका
अधिकारियों ने बताया कि यूरोपीय और मध्य पूर्व सहित सभी प्रमुख देशों के एक प्रतिनिधिमंडल को अगले साल फरवरी में होने वाले इस कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाएगा। प्रतिनिधिमंडल को कन्नौज के इत्र व्यापारियों से मिलने का मौका मिलेगा। साथ ही उन्हें कन्नौज के इत्र के गुण और उसके निर्माण की प्रक्रिया से भी परिचित कराया जाएगा। इसके माध्यम से कन्नौज के परफ्यूम व्यापारियों को अपने उत्पादों को विदेशी खरीदारों को दिखाने और वैश्विक व्यापार की संभावनाओं का पता लगाने का भी मौका मिलेगा।
 
दुनियाभर में मशहूर है यूपी के कन्नौज का इत्र
कन्नौज के इत्र की चर्चा पूरी दुनिया में होती है। कहा जाता है कि कन्नौज की गलियों की मिट्टी से भी इत्र की महक आती है। जानकारी के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय परफ्यूम फेस्टिवल में विदेशी प्रतिनिधिमंडल को लाने की जिम्मेदारी भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की होगी। इस आयोजन के तहत लखनऊ में एक दिवसीय कार्यक्रम होगा, जिसमें विभिन्न संगोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा. इसके बाद सभी विदेशी मेहमानों को कन्नौज ले जाया जाएगा। उन्हें परफ्यूम उद्यमियों, परफ्यूम निर्माताओं और निर्यातकों से मिलने का मौका मिलेगा।
 
इंटरनेशनल परफ्यूम फेस्टिवल में शामिल होंगे कई यूरोपीय देश
इंटरनेशनल परफ्यूम फेस्टिवल में दुनिया भर के देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे, खासकर फ्रांस, जर्मनी, स्विटजरलैंड जैसे यूरोपीय देशों के प्रतिनिधि। इसके अलावा दुबई समेत मध्य पूर्व के कई देश भी इसमें हिस्सा लेंगे। इन सभी देशों में फ्रांस सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसे परफ्यूम उद्योग में अग्रणी माना जाता है। इंटरनेशनल परफ्यूम फेस्टिवल के आयोजन का मुख्य उद्देश्य दुनिया के परफ्यूम उत्पादक देशों और कंपनियों को भारत के परफ्यूम खासकर कन्नौज से जोड़ना है।
 
कन्नौज के इत्र पूरी तरह से जैविक
कन्नौज के इत्र की सबसे खास बात यह है कि इत्र के निर्माण में आवश्यक तेल का उपयोग किया जाता है। यह पूरी तरह से जैविक है और इससे उपयोगकर्ता को कोई दुष्प्रभाव या नुकसान नहीं होता है। वहीं, ज्यादातर देशों में परफ्यूम के निर्माण में अल्कोहल का इस्तेमाल ज्यादा होता है। धीरे-धीरे विश्व बाजार आवश्यक तेलों की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में इन देशों की नजर भारत की ओर है। यही कारण है कि इन देशों के इत्र निर्माताओं को उत्सव में लाने का उद्देश्य है ताकि वे आवश्यक तेलों पर आधारित इत्र की ओर रुख करें, कन्नौज उनके दिमाग में है।

Related Articles

Back to top button