राजस्थान: करौली हिंसा के पीड़ितों से मिलने जा रहे भाजपा नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया

भरतपुर
करौली हिंसा के पीड़ितों से मिलने के लिए और न्याय दिलाने के लिए बुधवार को भारी संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ करौली जा रहे प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनिया और राष्ट्रीय भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या को बॉर्डर पर रोक दिया। बाद में भाजपा नेताओं को हिरासत में लिया गया है।

करौली बॉर्डर पर सलेमपुर गांव के पास भाजपाइयों का प्रदर्शन
भाजपा न्याय यात्रा के दौरान भाजपा नेता व कार्यकर्ताओं को करौली बॉर्डर पर पुलिस ने रोक दिया। जिससे नाराज होकर भाजपाई नेता और कार्यकर्ताओं ने सड़क पर ही विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी शुरू कर दी। वहीं सड़क पर सभी भाजपा कार्यकर्ता नेता धरने पर बैठ गए हैं। भाजपा नेताओं ने ऐलान किया है कि करौली जाकर ही रहेंगे चाहे कुछ भी करना पड़े।

भारी संख्या में तैनात है पुलिस बल
सैकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता और नेता न्याय यात्रा करते हुए करौली जा रहे थे जिनको बॉर्डर पर ही रोक दिया। बॉर्डर पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है जिसमें कई आईपीएस अधिकारियों को भी तैनात किया गया है। भाजपाइयों को बॉर्डर से अंदर करौली की तरफ जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का क्या कहना
भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्य ने कहा कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार तानाशाह है। जो हमारे संवैधानिक अधिकारों को भी छीनना चाह रही है। हम संवैधानिक तरीके से करौली जाकर पीड़ितों से मिलना चाहते हैं। लेकिन अशोक गहलोत की पुलिस हमें जाने की इजाजत नहीं दे रही है इसलिए हमने संकल्प लिया है कि हम करौली जा कर ही मानेंगे। फिलहाल पुलिस हमें जाने नहीं दे रही है इसलिए यही सड़क पर ही धरने पर बैठे रहेंगे।

भाजपाई कर रहे हैं विरोध प्रदर्शन
पुलिस द्वारा रोके जाने के बाद भाजपा कार्यकर्ता सड़क पर ही विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं ने सड़क पर लकड़ी जलाकर राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का यह है कहना
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनिया ने बताया कि करौली में यात्रा के दौरान विशेष समुदाय के लोगों ने रैली पर पथराव किया। अशोक गहलोत सरकार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है। कांग्रेस सरकार तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। फिलहाल हम सड़क पर ही धरने पर बैठे हुए हैं।  फिलहाल करौली बॉर्डर पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। जहां एक तरफ भाजपा नेता करौली जाने की जिद पर अड़े हुए हैं तो वही पुलिस उनको जाने की इजाजत नहीं दे रही है। अब देखना यह होगा कि यह विवाद कब तक चलता है और क्या भाजपा नेता करौली जाने में सफल हो पाते हैं।

Related Articles

Back to top button