राजस्थान: सवाईमाधोपुर जिले के रणथंभौर में बाघिन टी-39 दो शावकों सहित लापता

जयपुर
राजस्थान में सवाईमाधोपुर जिले के रणथंभौर में बाघिन टी-39 अपने दो शावकों सहित गायब हो गई। वन विभाग पिछले दो सप्ताह से बाघिन और उसके शावकों की तलाश में जुटा है। लेकिन अब तक पता नहीं चल सका है। तलाशी अभियान के दौरान ट्रेकिंग और कैमरा ट्रैप में भी दिखाई नहीं दिए है। इससे वन विभाग की चिंता बढ़ गई है।अधिकारीयों के अनुसार बाघिन नूर की उम्र अधिक है। वह उम्र के आखिरी पड़ाव पर मां भी बनी है। उम्र के आखिरी पड़ाव पर होने के कारण कई दिनों से शावकों को स्तनपान भी नहीं करा पा रही थी। ऐसे में बाघिन नूर के शावक कुछ दिनों से नजर नहीं आ रहे हैं। ना ही शावक कैमरे में कैद हो रहे हैं। ऐसे में शावकों की तलाश की जा रही है।

मालूम हो कि बाघिन ने एक महीने पहले ही शावकों को जन्म दिया था। बाघिन और उसके शावकों की तलाश के लिए वनकर्मियों की तीन टीम बनाई गई है। प्रत्येक टीम में पांच सदस्य हैं। टीमों ने पहले तो जोन नंबर एक और छह में तलाशी अभियान चलाया । लेकिन वहां सफलता नहीं मिली तो अब पूरे जंगल में ही तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। जानकारी के अनुसार बाघिन टी-39 को नूर के नाम से भी जाना जाता है। रणथंभौर के वन अधिकारी महेंद्र शर्मा ने बताया कि बाघिन नूर की उम्र 35 साल है। वह उम्र के आखिरी पड़ाव पर मां बनी है। ज्यादा उम्र होने के कारण उसने कई दिन तक शावकों को सही तरह से ख्याल भी नहीं रखा था । अब बाघिन और शावक नजर नहीं आ रहे हैं। जंगल में लगे कैमरों को तलाशा गया, लेकिन सफलता नहीं मिली है।

वहीं वन अधिकारियों के अनुसार बाघिन नूर ने अपने दो शावकों को जन्म दिया था। उसके बाद जोन एक के गाड़ाडूब एनिकट क्षेत्र में उनका मूवमेंट रहता था। एहतियात के तौर पर एनिकट क्षेत्र में पर्यटकों के जाने पर भी पाबंदी लगा दी गई थी। जिसके बाद करीब दस दिन से बाघिन और उसके शावक दिखाई नहीं दे रहे है।

Related Articles

Back to top button