तो इस वजह से चुनाव हार गए केशव प्रसाद मौर्या, अगर नहीं करते ये गलती तो हासिल हो जाती जीत

लखनऊ
सात चरणों में उत्तर प्रदेश के हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 मार्च को सामने आ गए, जिसने कई राजनीतिक दिग्गजों को हैरान कर दिया। इन्हीं में से एक हैं उत्तर प्रदेश के पूर्व डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या, जिन्हें सिराथू विधानसभा सीट से करारी शिकस्त मिली है। एक तरफ जहां भारतीय जनता पार्टी ने यूपी में दोबारा चुनाव जीतकर रिकॉर्ड बनाया है। वहीं केशव प्रसाद मौर्या चुनाव हार गए। केशव प्रसाद मौर्या की हार ने हर किसी को हैरान कर दिया। पल्लवी पटेल ने केशव प्रसाद को हराया पल्लवी पटेल ने केशव प्रसाद को हराया एक प्रमुख ओबीसी नेता, मौर्य, अपना दल (कामेरावाड़ी) के नेता पल्लवी पटेल से सिराथू सीट हार गए, जिन्होंने समाजवादी पार्टी (सपा) के टिकट पर चुनाव लड़ा था। पल्लवी पटेल ने केशव प्रसाद मौर्या को 7,337 मतों से हरा दिया।

केशव प्रसाद ने कहा- क्षेत्र में और समय देना चाहिए था केशव प्रसाद ने कहा- क्षेत्र में और समय देना चाहिए था शुक्रवार को द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, मौर्य ने कहा कि उन्हें अपनी जीत के बारे में कोई संदेह नहीं है, उन्होंने स्वीकार किया कि उन्हें अपने निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार करने के लिए और समय देना चाहिए था। कहा- मुझे अपने क्षेत्र के लोगों पर था भरोसा कहा- मुझे अपने क्षेत्र के लोगों पर था भरोसा उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा, 'मैं सोच रहा था कि पूरा राज्य हमारे लिए महत्वपूर्ण है और इसलिए जहां भी पार्टी को जरूरत थी वहां मैं सभाओं को संबोधित कर रहा था। मैं अपने ही निर्वाचन क्षेत्र में केवल डेढ़ दिन ही दे पाया। मुझे यहां (सिराथू) और समय देना चाहिए था। मुझे अपने क्षेत्र के लोगों पर भरोसा था। मुझे अपनी जीत के बारे में कोई संदेह नहीं था।
 

Related Articles

Back to top button