दिल्ली-नोएडा समेत गाजियाबाद में मिले मंकीपाक्स के संदिग्ध मरीज

नई दिल्ली/नोएडा/गाजियाबाद
दिल्ली एनसीआर में मंकीपाक्स के संक्रमण का अब खतरा मंडराने लगा है। दिल्ली में 24 जुलाई को एक मंकीपाक्स का मरीज मिला है। तो वहीं, मंगलवार को दिल्ली में एक संदिग्ध मरीज मिला है, जो गाजियाबाद का रहने वाला है। इसके अलावा नोएडा और गाजियाबाद के जिला अस्पताल में भी मंकीपाक्स एक-एक संदिग्ध मरीज मिला है। सभी संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेकर पुणे लैब में भेज दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही अब स्थिति साफ हो पाएगी। दिल्ली में मिले मरीज का एलएनजेपी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

नोएडा में मिली संदिग्ध महिला
सेक्टर-39 स्थित जिला अस्पताल की नई बिल्डिंग में मंगलवार को इलाज के लिए मंकीपॉक्स की संदिग्ध महिला पहुंची थी। ग्रेटर नोएडा निवासी महिला का ब्लड और स्वैब का सैंपल लेकर जांच के लिए पुणे स्थित लैब भेजा गया है। महिला के मुंह और शरीर पर मंकीपॉक्स के लक्षण दिखने के बाद सैंपल लिए गए हैं। महिला की आयु 47 वर्ष बताई जा रही है। महिला अपने पति के साथ लक्षण दिखने पर जांच के लिए पहुंची थी। सैंपल लेने के बाद महिला को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गई है। महिला की ट्रेवल हिस्ट्री पता लगाई जा रही है। उनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल लिए जाएंगे।

गाजियाबाद में मिला मंकीपाक्स का एक संदिग्ध मरीज
जिला एमएमजी अस्पताल की ओपीडी में मंगलवार को मंकीपॉक्स का एक संदिग्ध मरीज मिला है। संज्ञान में आते ही जिला सर्विलांस अधिकारी आरके गुप्ता ने मरीज का सैंपल लेकर जांच के लिए पुणे भेज दिया है। मरीज फिलहाल घर पर है। चिकत्सकों ने मरीज के शरीर के दाने देखकर चिकनपॉक्स मानते हुए तुरंत परामर्श लिख दिया लेकिन चिकित्सकों ने इसकी जानकारी सीएमओ को दे दी।

दिल्ली में मिला संदिग्ध
दिल्ली के लोकनायक अस्पताल (LNJP Hospital) में मंगलवार को मंकीपाक्स का एक और संदिग्ध मिला। संदिग्ध दिल्ली से सटे गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। मरीज को हल्का बुखार और शरीर लाल दाने दिख रहे हैं। लोकनायक अस्पताल ने जांच के लिए युवक के खून का सैंपल पुणे स्थित एनआइवी की लैब भेजा है। संदिग्ध दो महीने पहले ही पेरिस (फ्रांस) गया था। संदिग्ध शक्श 20 दिन पहले मुंबई से लौटा है।

24 जुलाई को मिला था मरीज, LNJP में की गई बेड की व्यवस्था
लोकनायक अस्पताल को मंकीपाक्स के इलाज के लिए नोडल अस्पताल बनाया गया है। यहीं पर मंकीपाक्स से पीड़ित 34 वर्षीय मरीज को भर्ती किया गया है। अभी अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में मंकीपाक्स के इलाज के लिए छह बेड की व्यवस्था की गई है। जरूरत पड़ने पर बेड की संख्या बढ़ाई जाएगी।

 

Related Articles

Back to top button