उन्हें बेटा चाहिए था, श्वेता सिंह की बेटियों ने खोला मां पर अत्याचार का राज, कहा- पापा और बाबा ने ली जान; मोदी-योगी से मांगा इंसाफ

बांदा
यूपी के बांदा में जिला पंचायत सदस्य श्वेता सिंह की मौत पर पूर्व डीआईजी ससुर, भाजपा नेता पति, सास और हाईकोर्ट के अधिवक्ता जेठ पर दहेज हत्या की एफआईआर दर्ज कर ली गई है। गिरफ्तारी के बाद अंतिम संस्कार पर अड़े मायकेवाले सदर विधायक के हस्तक्षेप के बाद माने। उधर, सोशल मीडिया में श्वेता की बेटियों का वीडियो वायरल हो रहा है इसमें दादा-दादी पर गंभीर आरोप लगाए और मोदी-योगी से सजा की मांग की।

चित्रकूट में कर्वी स्थित गोकुलपुरी शंकर बाजार निवासी श्वेता के भाई ओमकार सिंह ने बहन के ससुर राजबहादुर सिंह, पति दीपक सिंह, सास पुष्पा सिंह और जेठ धनंजय सिंह के खिलाफ प्रताड़ना और हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। उसने बहन के ससुराल वालों पर 50 लाख दहेज मांगने और बेटा न होने पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। बताया, 26 अप्रैल को दीपक के पीटने पर मां, छोटा भाई और मौसी बहन के घर समझाने भी गई थीं। तब दीपक ने पिता का रसूख दिखाकर हत्या की धमकी दी थी। वहीं, सीओ सिटी राकेश कुमार ने कहा, दहेज हत्या की एफआईआर दर्ज की गई है। पोस्टमार्टम में हैंगिंग से मौत की बात सामने आई है।

योगी-मोदी जी मेरी मम्मी को न्याय दिलाएं। मेरी मां को सबने मिलकर मार डाला। सबको जेल भेजा जाए। ये मार्मिक फरियाद रोते हुए श्वेता की बेटी अभिका और अदिति ने की। श्वेता अपने पीछे तीन बेटियां सबसे बड़ी 14 वर्षीय अदिति सिंह, 10 वर्षीय अभिका सिंह उर्फ गौरी और चार वर्षीय अविष्का उर्फ बब्बू को छोड़ गई है। अदिति और गौरी ने रोते हुए मां को न्याय दिलाने की मांग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की है। दोनों बच्चियों के मुताबिक, श्वेता को बाबा, दादी और पिता प्रताड़ित करते थे। बेटा न होने को लेकर अक्सर ताने देते थे। सोसाइटी में मां को बेइज्जत किया जाता था। बाबा कहते थे कि लड़कियों को प्राइमरी स्कूल में पढ़ाओ। लड़का चाहिए था। तलाक दे दो। दूसरी शादी कर लो। गालियां देते थे। मां को सबने मिलकर मार डाला। सबकी गिरफ्तारी की जाए। दीपक सिंह घर से भागने से पहले मझली बेटी अभिका सिंह उर्फ गौरी को सर्वोदयनगर स्थित स्कूल लेने गया था। बेटी को स्कूल से लाकर घर के पास सड़क पर उतारा। कहा कि तुम्हारी मां मर चुकी है।

 

Related Articles

Back to top button