शुभशक्ति योजना में आवेदकों के लिए पोर्टल की जांच कराकर शीघ्र ही पुनः शुरु करेंगे : श्रम राज्य मंत्री

जयपुर। श्रम राज्य मंत्री श्री सुखराम विश्नोई ने शुक्रवार को विधानसभा में आश्वस्त किया किशुभशक्ति योजना के तहत आवेदकों के लिए पोर्टल वर्तमान में स्थगित है, इसकी जांच करवाकर इसे पुनः शुरु करवा दिया जाएगा।

श्री विश्नोई ने प्रश्नकाल में विधायकों द्वारा इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए बताया कि शुभशक्ति योजना का श्रमिक विभाग द्वारा भवन निर्माण में प्राप्त हुई सेस के आधार पर संचालन किया जाता है। उन्होंने बताया कि योजना में केन्द्र सरकार से कोई हिस्सा राशि प्राप्त नहीं होती है। उन्होंने बताया कि सीकर जिले से शुभशक्ति योजना के तहत 1 लाख 17 हजार 858 आवेदन प्राप्त हुए है तथा इनमें 43 हजार 571 आवेदनों को स्वीकृत तथा 39 हजार 571 निरस्त तथा विभागीय स्तर पर 9 हजार 135 आवेदन लंबित है।

उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण भवन निर्माण से कम सेस प्राप्त होने, विभागीय अन्य योजनाएं जैसे प्रसूति सहायता योजना, छात्रवृति योजना, सिलिकोसिस योजना सहित अन्य योजनाओं में व्यय होने तथा शुभशक्ति योजना में लाभार्थियों को विवाह के साथ अन्य व्यवसायों से जोड़ने के लिए शुभशक्ति योजना में आवेदन का पोर्टल वर्ष 2019 से स्थगित है। उन्होंने आश्वस्त किया कि विभागीय बैठक में इस संबंध में कमिटी बनी है, इसकी जांच करवाकर शीघ्र ही योजना के नये आवेदनों के लिए पोर्टल शुरु करवा देंगे।

इससे पहले श्री विश्नोई ने प्रश्नकाल में विधायक श्री गिरधारीलाल के मूल प्रश्न के लिखित जवाब मेंबताया कि शुभशक्ति योजना के वर्तमान स्वरूप में संशोधन पर अन्तिम निर्णय होने तक मण्डल की बैठक 6 जुलाई 2021 में शुभशक्ति के नये आवेदनों की प्राप्ति को ऑनलाईन पोर्टल पर स्थगित रखने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया है।

उन्होंने बताया कि शुभशक्ति योजना के वर्तमान स्वरूप में संशोधन संबंधी प्रक्रिया पूर्ण होने पर भवन एवं अन्य संनिर्माण श्रमिक कल्याण मण्डल की बैठक में निर्णयानुसार कार्यवाही की जायेगी।
श्री विश्नोई ने बताया कि 4 फरवरी 2017 के पश्चात सीकर जिले में 6505 आवेदकाें को शुभशक्ति योजना का लाभ दिया गया है।उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री की बजट घोषणा वर्ष 2022-23 के अनुसरण में शुभशक्ति योजना के आवेदनों के निस्तारण की प्रभावी कार्यवाही प्रारम्भ कर दी गई है।

Related Articles

Back to top button