कांग्रेस को निर्दलीय विधायकों से मिलेगा बूस्ट, गहलोत की जादूगरी से भाजपा को झटका लगने के आसार

जयपुर
राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों पर 10 जून को चुनाव होने है। राज्यसभा चुनाव में सीएम गहलोत का जादू चलने के पूरे आसार है। यानी कांग्रेस 4 में 3 सीट जीतने के लेकर पूरी तरह आश्वस्त है। कांग्रेस को तीसरी सीट के लिए निर्दलीय विधायकों की जरूरत पड़ेगी। सीएम गहलोत ने राज्यसभा चुनाव से पहले सीएम सलाहकार समिति का गठन कर निर्दलीय विधायकों को एडजस्ट कर भाजपा को सियासी तौर पर झटका दे दिया है। भाजपा की एक सीट पक्की है, जबकि दूसरी सीट के लिए निर्दलीय विधायकों का समर्थन चाहिए। सभी 13 निर्दलीय विधायक गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे हैं। निर्दलीय विधायकों की नाराजगी के दम पर बीजेपी सियासी लाभ उठाती, उससे पहले ही गहलोत ने विधायकों के लिए पहले ही खजाना भी खोल दिया था। इन विधायकों के मनपसंद अधिकारी लगाकर सीएम ने नाराजगी भी दूर कर दी है।

4 में से 3 सीट कांग्रेस जीत सकती है
राज्यसभा चुनाव में यदि उलटफेर नहीं हुआ तो कांग्रेस को राजस्थान से बूस्ट मिलेगा। राजस्थान विधानसभा में संख्या बल कांग्रेस के पक्ष में है। कांग्रेस के पास 108 विधायक, भाजपा के पास 71, निर्दलीय 13, आरएलपी 3, बीटीपी 2, माकपा 2 और आरएलडी के पास एक विधायक है। संभावना है कि मौजूगा संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस 4 में 3 राज्यसभा की सीट आसानी से जीत जाएगी।

बीजेपी को निर्दलीय विधायकों से आस
माना जा रहा है कि बीजेपी 4 में से 2 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी। पार्टी कम से कम 2 सीटों पर अपना प्रत्याशी खड़ा कर कांग्रेस को चुनौती देगी। कांग्रेस के पास 2 सीटों पर जीत के लिए बहुमत है लेकिन तीसरी सीट पर जीत के लिए उसे निर्दलीय विधायकों का सहारा लेना पड़ेगा। ऐसे में बीजेपी भी 2 सीटों पर प्रत्याशी खड़ा कर इस सियासी रंग को रोचक बनाना चाहती है। चुनाव आयोग की ओर से जारी चुनावी कार्यक्रम में 24 से 31 मई तक इन सीटों पर चुनाव के लिए नामांकन होगा। 1 जून को प्राप्त होने वाले नामांकन की स्क्रूटनी और 3 जून को नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख होगी। इसके बाद 10 जून को मतदान होगा। उसके बाद नतीजे जारी कर दिए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों के लिए 10 जून को मतदान होना है। राजस्थान से ओमप्रकाश माथुर, केजे अल्फोंस, राम कुमार वर्मा और हर्षवर्धन सिंह डूंगरपुर का कार्यकाल पूरा हो गया है। ये चारों सीटें भाजपा के पास थी। इनका कार्यकाल 4 जुलाई तक रहेगा।  

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस को मिलेगा फायदा
राजस्थान से राज्यसभा के 10 सांसदों में से 7 भाजपा, 3 कांग्रेस सांसद है। कांग्रेस की 2 और भाजपा की 1 सीट पर जीत तय है। इस लिहाज से कांग्रेस के सदस्यों की संख्या बढ़कर 5 और भाजपा की 4 रह जाएगी। कांग्रेस चौथी सीट भी जीत जाती है तो प्रदेश से उसके पास राज्यसभा में उसके पास सांसद भाजपा से ज्यादा हो जाएंगे। कांग्रेस से पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी है। वहीं भाजपा से किरोड़ी लाल मीणा, केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव और राजेंद्र गहलोत है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button