MP Breaking News : प्रदेश में घने कोहरे के साथ कड़ाके की ठंड, कई जिलो में बारिश के आसार

MP Breaking : कड़ाके की सर्दी के साथ नए साल की शुरुआत हुई है। प्रदेश के कई जिलों में दोपहर 12 बजे तक कोहरा देखने को मिला। ग्वालियर, चंबल, बुंदेलखंड और बघेलखंड में शीतलहर चलती रही।

MP Breaking : उज्जवल प्रदेश, भोपाल. कड़ाके की सर्दी के साथ नए साल की शुरुआत हुई है। प्रदेश के कई जिलों में दोपहर 12 बजे तक कोहरा देखने को मिला। ग्वालियर, चंबल, बुंदेलखंड और बघेलखंड में शीतलहर चलती रही। मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घंटे में मौसम में बदलाव होगा। साथ ही 5 और 6 जनवरी को कई जिलों में मावठा भी गिर सकता है।

न्यूनतम तापमान घटकर 7.2 डिग्री पर

राजधानी भोपाल में नए साल के दूसरे दिन से ही घना कोहरा छाया हुआ है। इसके चलते शहर का न्यूनतम तापमान घटकर 7.2 डिग्री पर आ गया है। इसके साथ ही 2 रन भी बढ़ गई है। मौसम विभाग ने राजधानी सहित प्रदेश के 11 स्थानों पर कोहरे का ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किया है रात में शहर का तापमान तेजी से बदला और सर्द हवाओं का ख़ौफ बढ़ गया। वेस्टर्न डिस्टरबेंस के गुजरने के बाद अब प्रदेश में उतरी सर्द हवाओं का प्रवेश हो गया है इससे ठंड बढ़ गई है।

दो दिन बाद गिर सकता है मावठा

मौसम विभाग के अनुसार आगामी 5 से 6 जनवरी को मावठा गिरने की संभावना बनी हुई है। इसकी एंट्री जबलपुर से होगी। ईस्ट एमपी में बारिश हो सकती है। अगर स्ट्रॉन्ग सिस्टम बनता है, तो तापमान में तेजी से गिरावट होगी। सिस्टम अगर ज्यादा स्ट्रॉन्ग होता है तो ओले भी गिर सकते हैं। इस दौरान भोपाल, इंदौर, उज्जैन और नर्मदापुरम का तापमान 9 डिग्री से नीचे जा सकता है। जबकि ग्वालियर, चंबल, बघेलखंड, बुंदेलखंड और महाकौशल में पारा 7 डिग्री से नीचे लुढ़क सकता है।

पचमढ़ी में 4 डिग्री तक लुड़का तापमान, इन जिला का रहा ऐसा हाल

प्रदेश में सोमवार को पचमढ़ी सबसे ठंडा रहा। पचमढ़ी में 4.6, गुना में 5.6, दतिया में 6.5, रायसेन-नौगांव में 7, रतलाम-भोपाल में 7.2, उमरिया में 7.4, सागर में 7.9, नरसिंहपुर में 8, ग्वालियर में 8.2, दमोह में 8.6, जबलपुर-उज्जैन में 8.7 डिग्री न्यूनतम तापमान रहा।

भोपाल में शिमला,मनाली का मजा !

अगर आप पर्यटकों की भीड़ के कारण या फिर किसी वजह से शिमला,मनाली या नैनीताल नहीं जा पाए हैं तो दुःखी मत रहिए।आप बिना खर्च किए बिना भी इन हिल स्टेशनों का आनंद उठा सकते हैं और ये सरकार की कोई लोकलुभावन योजना भी नहीं है। बस, इसके लिए सुबह करीब साढ़े छह बजे से साढ़े आठ नौ बजे के दरम्यान आपको रजाई/कंबल का मोह त्याग कर भोपाल के बड़े तालाब तक पहुंचना होगा। यहां पहुंचे के बाद आपको शिमला,मनाली का मजा मिल जाएगा।

हिमालय से आने वाली हवाओं से बढ़ी ठिठुरन

मौसम विज्ञानियों की मानें तो उत्तर-पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में हिमालय से आने वाली उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण न्यूनतम तापमान में गिरावट आई है। अगले 24 घंटों में भी इतनी ही गिरावट की संभावना है। आगामी दो से तीन दिनों के दौरान पश्चिम मध्यप्रदेश के कुछ क्षेत्रों में घने कोहरे की संभावना है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Join Our Whatsapp Group