CharDham Yatra: जाने चार धाम यात्रा का सही क्रम और पूरी जानकारी

CharDham Yatra: उत्तराखंड, जिसे देवभूमि या देवताओं की भूमि के रूप में भी जाना जाता है, कई मंदिरों का गढ़ या घर कह सकते है और पूरे वर्ष भक्तों का स्वागत करता है। उत्तराखंड में श्रद्धालु जिन अनगिनत धार्मिक स्थलों और मंदिरो का दौरा करते हैं, उनमें से सबसे प्रमुख चार धाम यात्रा है।

CharDham Yatra: यात्रा या तीर्थयात्रा हिमालय की ऊंचाई पर स्थित चार पवित्र स्थलों – यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ – की यात्रा है। हिंदी में, ‘चर’ का अर्थ है चार और ‘धाम’ का अर्थ धार्मिक स्थलों से है। उत्तराखंड में श्रद्धालु जिन अनगिनत धार्मिक स्थलों और मंदिरो का दौरा करते हैं, उनमें से सबसे प्रमुख चार धाम यात्रा है। यह यात्रा या तीर्थयात्रा हिमालय की ऊंचाई पर स्थित चार पवित्र स्थलों – यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ – की यात्रा है।

चार धाम यात्रा – CharDham Yatra

हिमालय की ऊंचाई पर स्थित मंदिर हर साल लगभग छह महीने के लिए बंद रहते हैं, मंदिर गर्मियों में (अप्रैल या मई) खुलते हैं और सर्दियों की शुरुआत (अक्टूबर या नवंबर) के साथ मंदिर बंद हो जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि चार धाम यात्रा को दक्षिणावर्त दिशा में पूरा करना चाहिए। इसलिए, तीर्थयात्रा यमुनोत्री से शुरू होती है, गंगोत्री की ओर बढ़ती है, केदारनाथ तक जाती है और अंत में बद्रीनाथ पर समाप्त होती है। यात्रा सड़क या हवाई मार्ग से पूरी की जा सकती है (हेलीकॉप्टर सेवाएं उपलब्ध हैं)। कुछ भक्त दो धाम यात्रा या दो तीर्थों – केदारनाथ और बद्रीनाथ की तीर्थयात्रा भी करते हैं।

उत्तरकाशी जिले में यमुना नदी (गंगा नदी के बाद दूसरी सबसे पवित्र भारतीय नदी) के स्रोत के करीब एक संकीर्ण घाटी में स्थित यमुनोत्री मंदिर, देवी यमुना को समर्पित है। उत्तरकाशी जिला देवी गंगा को समर्पित गंगोत्री का भी घर है, जो सभी भारतीय नदियों में सबसे पवित्र है। रुद्रप्रयाग जिले में स्थित केदारनाथ भगवान शिव को समर्पित है। बद्रीनाथ, पवित्र बद्रीनारायण मंदिर का घर, भगवान विष्णु को समर्पित है। चार धाम यात्रा जितनी दिव्य है उतनी ही कठिन भी लेकिन आत्मा को तृप्त करने वाली है।

चार धाम यात्रा में घूमने की जगह – Places to visit CharDham

Chardham-Yatra-map

यह यात्रा या तीर्थयात्रा हिमालय की ऊंचाई पर स्थित चार पवित्र स्थलों – यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ – की यात्रा है। चार धाम यात्रा को दक्षिणावर्त दिशा में पूरा करना चाहिए। इसलिए, तीर्थयात्रा यमुनोत्री से शुरू होती है, गंगोत्री की ओर बढ़ती है, केदारनाथ तक जाती है और अंत में बद्रीनाथ पर समाप्त होती है।

यहाँ घूमने के लिए प्रमुख Dham :-

यमुनोत्री – Yamunotri Char Dham Yatra

Yamunotri Char Dham Yatra

यमुनोत्री, उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है। यह हिंदू धर्म में पवित्र नदी यमुना का उद्गम स्थल है। यमुनोत्री को हिंदुओं के चार धाम यात्रा में से एक माना जाता है। यमुनोत्री हिमालय की बंदरपूंछ श्रृंखला में समुद्र तल से 3,293 मीटर (10,804 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक दुर्गम स्थान है और यहां तक पहुंचने के लिए पैदल या घोड़े की पीठ पर यात्रा करनी पड़ती है। यमुनोत्री मंदिर यमुना देवी को समर्पित है। मंदिर एक गुफा में स्थित है और यहां यमुना देवी की एक काले पत्थर की मूर्ति है। मंदिर के पास ही एक प्राचीन कुंड है, जिसे संगम कुंड कहा जाता है। इस कुंड में यमुना नदी का उद्गम होता है। यमुनोत्री एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है और यहां साल भर तीर्थयात्रियों का आना जाना रहता है। विशेष रूप से, यमुना अष्टमी के अवसर पर यहां मेला लगता है।

Also Read: Baba Vanga Predictions: बाबा वेंगा ने दी ये चेतावनी, इंदिरा गांधी के हत्या की भविष्यवाणी हुई थी सच

गंगोत्री – Gangotri CharDham Yatra

गंगोत्री, उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है। यह हिंदू धर्म में पवित्र नदी गंगा का उद्गम स्थल है। गंगोत्री को हिंदुओं के चार धाम यात्रा में से एक माना जाता है। गंगोत्री हिमालय की बंदरपूंछ श्रृंखला में समुद्र तल से 3,042 मीटर (10,009 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक दुर्गम स्थान है और यहां तक पहुंचने के लिए पैदल या घोड़े की पीठ पर यात्रा करनी पड़ती है। गंगोत्री मंदिर गंगा देवी को समर्पित है। मंदिर एक गुफा में स्थित है और यहां गंगा देवी की एक कांस्य की मूर्ति है। मंदिर के पास ही एक प्राचीन कुंड है, जिसे गंगा कुंड कहा जाता है। इस कुंड में गंगा नदी का उद्गम होता है। गंगोत्री एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है और यहां साल भर तीर्थयात्रियों का आना जाना रहता है। विशेष रूप से, गंगा दशहरा के अवसर पर यहां मेला लगता है।

केदारनाथ – Kedarnath 4 Dham Yatra

Kedarnath 4 Dham Yatra

चार धाम यात्रा (char dham yatra) हिदू धर्म के चार सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों की यात्रा है। केदारनाथ, उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है। यह हिंदू धर्म में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। केदारनाथ को हिंदुओं के चार धाम यात्रा में से एक माना जाता है। केदारनाथ हिमालय की पंचचूली पर्वतमाला में समुद्र तल से 3,584 मीटर (11,755 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक दुर्गम स्थान है और यहां तक पहुंचने के लिए पैदल या घोड़े की पीठ पर यात्रा करनी पड़ती है। केदारनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर एक गुफा में स्थित है और यहां भगवान शिव की एक काले पत्थर की मूर्ति है। मंदिर के पास ही एक प्राचीन कुंड है, जिसे कल्पगृह कुंड कहा जाता है। इस कुंड में भगवान शिव का वास माना जाता है। केदारनाथ एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है और यहां साल भर तीर्थयात्रियों का आना जाना रहता है। विशेष रूप से, केदारनाथ धाम यात्रा के अवसर पर यहां मेला लगता है।

Also Read: IPL Retention: यहाँ देखे इंडियन प्रीमियर लीग 2024 की पूरी लिस्ट, कौन हुआ रिटेन या रिलीज जाने पूरी जानकारी

बद्रीनाथ – Badrinath 4 Dham Yatra

Badrinath 4 Dham Yatra

चार धाम यात्रा (char dham yatra) हिदू धर्म के चार सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों की यात्रा है। बद्रीनाथ, उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है। यह हिंदू धर्म में भगवान विष्णु के 108 दिव्य धामों में से एक है। बद्रीनाथ को हिंदुओं के चार धाम यात्रा में से एक माना जाता है। बद्रीनाथ हिमालय की नीलकंठ पर्वतमाला में समुद्र तल से 3,133 मीटर (10,289 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक दुर्गम स्थान है और यहां तक पहुंचने के लिए पैदल या घोड़े की पीठ पर यात्रा करनी पड़ती है। बद्रीनाथ मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। मंदिर एक गुफा में स्थित है और यहां भगवान विष्णु की एक शालीग्राम की मूर्ति है। मंदिर के पास ही एक प्राचीन कुंड है, जिसे तप्तकुंड कहा जाता है। इस कुंड का पानी गर्म रहता है और माना जाता है कि यह औषधीय गुणों से भरपूर है। बद्रीनाथ एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है और यहां साल भर तीर्थयात्रियों का आना जाना रहता है। विशेष रूप से, बद्रीनाथ धाम यात्रा के अवसर पर यहां मेला लगता है।

चार धाम यात्रा का मार्ग – Chardham Route Map

चार धाम यात्रा (char dham yatra) हिदू धर्म के चार सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों की यात्रा है। चार धाम यात्रा आमतौर पर उत्तराखंड के रास्ते से की जाती है। यात्रा का मार्ग इस प्रकार है:

  • बद्रीनाथ: दिल्ली से बद्रीनाथ की दूरी लगभग 330 किलोमीटर है। आप बस, ट्रेन या हवाई जहाज से बद्रीनाथ जा सकते हैं।
  • केदारनाथ: बद्रीनाथ से केदारनाथ की दूरी लगभग 220 किलोमीटर है। आप बस या टैक्सी से केदारनाथ जा सकते हैं।
  • गंगोत्री: केदारनाथ से गंगोत्री की दूरी लगभग 130 किलोमीटर है। आप बस या टैक्सी से गंगोत्री जा सकते हैं।
  • यमुनोत्री: गंगोत्री से यमुनोत्री की दूरी लगभग 250 किलोमीटर है। आप बस या टैक्सी से यमुनोत्री जा सकते हैं।

Also Read: Vastu Shastra : घर में खिंचा चला आएगा पैसा, बनी रहेगी सुख-शांति, घर के मुख्य द्वार पर करे पानी

चार धाम यात्रा के लिए आवश्यक दस्तावेज – Document for CharDham

चार धाम यात्रा के लिए पंजीकरण अनिवार्य है। पंजीकरण ऑनलाइन या ऑफलाइन किया जा सकता है। पंजीकरण के लिए, आपको अपने आधार कार्ड या अन्य वैध पहचान पत्र की एक प्रति, एक पासपोर्ट आकार की तस्वीर और 500 रुपये का शुल्क देना होगा।

चार धाम यात्रा रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करें – register for chardham yatra

चार धाम यात्रा रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करने के लिए, आपको उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। वेबसाइट पर, आपको “चार धाम यात्रा पंजीकरण” लिंक पर क्लिक करना होगा। पंजीकरण फॉर्म भरने के लिए, आपको निम्नलिखित जानकारी प्रदान करनी होगी:-

  • अपना नाम
  • अपना पता
  • अपना जन्मदिन
  • अपना मोबाइल नंबर
  • अपना ईमेल पता
  • अपना आधार कार्ड या अन्य वैध पहचान पत्र की एक प्रति अपलोड करना है
  • एक पासपोर्ट आकार की तस्वीर अपलोड करना है

पंजीकरण फॉर्म भरने के बाद, आपको 500 रुपये का शुल्क ऑनलाइन भुगतान करना होगा। शुल्क भुगतान करने के बाद, आपका पंजीकरण पूरा हो जाएगा।

चार धाम यात्रा मंदिर कपाट कब बंद होते हैं

यदि आप चार धाम यात्रा का प्लान बना रहें हैं तो चार धाम यात्रा के समय मंदिर का कपाट खुलने एवं बंद होने का समय निचे दिया गया है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है |

धाम का नामखुलने का समयबंद होने का समय
बद्रीनाथ धाम27 अप्रैल 202320 नवम्बर 2023
केदारनाथ धाम25 -26 अप्रैल 202314 नवम्बर 2023
गंगोत्री धाम22 अप्रैल 202314 नवम्बर 2023
यमुनोत्री धाम22 अप्रैल 202314 नवंबर 2023

Ujjain Mahakal Live Darshan Today: महाकालेश्वर के करें लाइव दर्शन, जाने Aarti-Darshan का समय

Show More
Back to top button
Join Our Whatsapp Group